अख़बार की दुनिया मे बेबाक़ी का सबसे बड़ा कलेजा

【 RNI-HIN/2013/51580 】
【 RNI-MPHIN/2009/31101 】



Jansamparklife.com







।सिन्धियों के वोट सिखाएंगे रामेश्वर को सबक।।

18 Oct 2019

no img

अनम इब्राहिम

सिंधी समाज की विरोधी ललकार को सुन फुले शिवराज के भी हाथपेर!!

भोपाल: जात के नाम पर सियासत करके बीजेपी के जो अब कट्टरपंथी मंत्री सरकार के डिब्बों में सवार थे। इस बार प्रदेश की जनता उन्हें हार के प्लेटफ़ॉर्म पर उतार फेंकेगी।

जनसम्पर्कlife

ऐसा ही एक कट्टरवादी विधायक रामेश्वर शर्मा भोपाल नगरी में भी मौज़ूद है जिसने धर्म को सीढ़िया बनाकर सियासत का सफल सफर शुरू किया लेकिन इस भोपाली विधायक के दिल में क्या है वो अक्सर ईश्वर इस के मुंह से निकलवा ही देते है।
जी हां, सिन्धी समाज की मज़हबी आस्था को ठेस पहुँचाने वाला ये वो ही विधायक है जो खुले मंच पर पाकिस्तान की क़ामयाबी की दुआ मांग रहा था।

जनसम्पर्कlife

मध्यप्रदेश में बीजेपी कांग्रेस के कई नेता ऐसे है जो सियासत में सफ़लता का अपहरण करने के लिए धर्म की दलाली कर खुद को दिखावे के देवता दर्शाते दर्शाते नही थकते उनमें से भाजपा के गन्दी जुबां रखने वाले विधायक रामेश्वर शर्मा भी शामिल है जो हमेशा धर्म की दीवार खड़ा कर के सियासत करने के आदि है। वैसे तो विधायक महोदय करोड़ो के होर्डिंग पोस्टर लगा कर खुद को कावड़ यात्रा के नाम पर सनातन धर्म की वाह-वाही लूटते है लेकिन बेचारे पैदल चलने वाले कावड़ियों के लिए रास्तो पर भोजन की व्यवस्था भी नही करवाते। रामेश्वर की जुबान का ज़हर अन्य धर्मों के लिए ही नही निकलता बल्कि उनकी जुबां पर इतनी गन्दी है कि ‘माँ के लोडे बहन के लोडे’ जैसे लफ्ज़ बार बार दोहराते है। पिछले साल तो रामेश्वर की ज़ुबान ऐसी फिसली कि अर्थ का अनर्थ हो गया था। सुनने वाले सकपका गए थे दरअसल रामेश्वर को उनकी ज़ुबान ने ही धोका दे दिया था वो भावुक होकर सच बोल पड़े की पाकिस्तान का नाम वो कश्मीर से कन्याकुमारी तक चाहते हैं। साथ ही रामेश्वर ने पाकिस्तान के लिए मंच पर दुआ भी मांग ली थी लेकिन बाद में जुबान के फिसल जाने का बहाना करने लगे। यही नही रामेश्वर शर्मा का तो विवादों से पुराना नाता है। बड़बोले होने के कारण वे अक्सर विवादों में आ ही जाते हैं। हाल ही में सच्चे भारत वासी सिन्धियों की रामेश्वर ने धार्मिक आस्था को ठेस पहुँचाई है जिस के विरोध में आज पूरा सिन्धी समाज सड़को पर उत्तर आया है जिसे देख खुद शिवराज के भी हाथ-पैर फूल गए है। वक़्त रहते शिवराज को अपनी सियासी साख बचाना चाहिए और रामेश्वर को बीजेपी से बाहर का रास्ता दिखा देना चाहिए वरना आगे ऐसे आस्तीन के सांपो के ज़हर से पार्टी तो दम तोड़ेंगी ही। इस तरह के कट्टरवादी विचारधारा रखने वालों के विरुद्ध पुलिस को भी कार्यवाही वाला रवैया इख़्तेयार कर लेना चाहिए जिससे कि शांति अमन भाईचारा शहर में क़ायम रह सके।

मध्यप्रदेश सियासत


Latest Updates

No img

भोपाल बैतरतीब बैरिकेट का बवाल DIG की कर्फ्यू व्यवस्था बदहाल!!


No img

दो बसो पर एक जैसा नम्बर, फ़रार नम्बरी बस मालिक की तलाश में जबलपुर पुलिस।।


No img

कमलनाथ सरकार ने पेश किया विजन डॉक्यूमेंट, सीएम ने गिनाईं उपलब्धियां


No img

New twist to be expected in MP’s politics after Narottam-Ajay’s meeting?


No img

क्या विधायक विश्वास सारंग ने ही दिग्विजय के पोस्टर लगवाए थे???


No img

प्रमोशन के लिए आदिवासियों को नक्सलवादी बनाने वाले एसपी का आतंकी क़िरदार हुआ सार्वजनिक!!!!


No img

​थाना हनुमानगंज तिवारी सुरक्षा का ताज सबित होंगे!


No img

भोपाल क्राइम ब्रांच में क्या गुंडे का क़िरदार निभा रहे हैं DSP सलीम??


No img

वरिष्ठ अधिवक्ता यावर खान के जन्मदिन का जशन वकीलों ने मिलकर बनाया।


No img

इंदौर पुलिस ने लगाई छात्रों की पाठशाला।


No img

Supreme Court transfers all FIRs against stand-up comedian Munawar Faruqui to Indore, extends interim bail


No img

ख़ौफ़ के साए में उज्जैन पुलिस ,बंदूक की नाल से निकली गोली ने फिर चीरा इंसानी चमड़ा!


No img

पूरी रात फ़रियादी महिला थाने के अंदर और आरोपी खुल्लमखुल्ला घूम रहा अब भी बाहर!!


No img

दूसरे प्रदेशों की तुलना में मध्यप्रदेश में शराब कि दुकानें कम, दुकानों की तादात बढ़ाने की तैयारी में सरकार


No img

The Indian Newspaper Society urges the Centre to withdraw the IT Rules amendment notified on April 6