अख़बार की दुनिया मे बेबाक़ी का सबसे बड़ा कलेजा

【 RNI-HIN/2013/51580 】
【 RNI-MPHIN/2009/31101 】



Jansamparklife.com







देश के सबसे बड़े ‘भारत छोड़ो’ आन्दोलन ने हिला दी थी अंग्रेजों की जड़ें

27 Nov 2019

no img

मैं तो एक ही चीज लेने जा रहा हूं-आज़ादी! नहीं देना है तो कत्ल कर दो। आपको एक ही मंत्र देता हूं करगें या मरेगें। आज़ादी डरपोकों के लिए नहीं है। जिनमे कुछ कर गुजरने की ताकत है, वही जिंदा रहते हैं। 8 अगस्त 1942 की रात्रि को कांग्रेस महासमिति के समक्ष भारत छोड़ो आंदोलन के प्रस्ताव पर बोलते हुए महात्मा गांधी ने उपरोक्त शब्द कहे, जोकि इतिहास का अहम दस्तावेज बन गए। महात्मा गांधी इस अवसर पर हिंदी और अंग्रेजी में तकरीबन तीन घटों तक बोले। महात्मा की तक़रीर के पूरे समय तक अजब सन्नाटा छाया रहा। ऐसा प्रतीत हो रहा था कि उनका एक एक शब्द में देश की मर्मान्तक चेतना को झिंझोड़ता रहा और उसे उद्वेलित करता रहा।

ठाणे। अमूमन 9 अगस्त को भारत छोड़ो आंदोलन की शुरुआत मानी जाती है. पर बहुत कम लोगों को पता है कि ये आंदोलन 8 अगस्‍त 1942 से आरंभ हुआ था. दरअसल, 8 अगस्‍त 1942 को बंबई के गोवालिया टैंक मैदान पर अखिल भारतीय कांग्रेस महासमिति ने वह प्रस्ताव पारित किया था, जिसे ‘भारत छोड़ो’ प्रस्ताव कहा गया. इसके बाद से ही ये आंदोलन व्‍यापक स्‍तर पर आरंभ किया गया.

“क्‍यों खास था ये आंदोलन”
महात्मा गांधी के नेतृत्‍व में शुरु हुआ यह आंदोलन सोची-समझी रणनीति का हिस्‍सा था. इस आंदोलन की खास बात ये थी कि इसमें पूरा देश शामिल हुआ. ये ऐसा आंदोलन था, जिसने ब्रिटिश हुकूमत की जड़ें हिलाकर रख दी थीं.

“गांधी जी का एतिहासिक भाषण”
गोवालिया टैंक मैदान से गांधीजी ने भाषण दिया. उन्‍होंने कहा, ‘मैं आपको एक मंत्र देना चाहता हूं जिसे आप अपने दिल में उतार लें, यह मंत्र है, करो या मरो’. बाद में इसी गोवालिया टैंक मैदान को अगस्त क्रांति मैदान के नाम से जाना जाने लगा.

“हिल गई अंग्रेजी हुकूमत”
इस आंदोलन के शुरू होते ही गांधी, नेहरू, पटेल, आजाद समेत कई बड़े नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया. अंग्रेजी हुकूमत इतना डर गई थी कि उसने एक भी नेता को नहीं बख्‍शा. उन्‍होंने सोचा कि ऐसा करने से आंदोलन ठंडा पढ़ जाएगा.

“लोगों ने खुद अपना नेतृत्‍व किया”
नेताओं की गिरफ्तारी के बाद जनता ने आंदोलन की बागडोर अपने हाथों में ले ली. हालांकि ये अंहिसक आंदोलन था पर आंदोलन में रेलवे स्‍टेशनों, सरकारी भवनों आदि पर हिंसा शुरू हो गई. अंग्रेज सरकार ने हिंसा के लिए कांग्रेस और गांधी जी को उत्तरदायी ठहराया. पर लोग अहिंसक तौर पर भी आंदोलन करते रहे. पूरे देश में ऐसा माहौल बन गया कि भारत छोड़ो आंदोलन अब तक का सबसे विशाल आंदोलन साबित हुआ. कहा जाता है कि इसकी व्यापकता को देखते हुए अंग्रेजों को विश्वास हो गया था कि उन्हें अब इस देश से जाना पड़ेगा।

  •  

हिंदुस्तान


Latest Updates

No img

रास्तों की वीरानी और जलती धूप से डरने वाले मंजिल तक नहीं पहुंच सकते


No img

MANIT student commits suicide by hanging self on tree, was enrolled in the final year of Mechanical Engg branch


No img

Woman posted at Revenue Department raped by her relative, police registers FIR


No img

नारी रक्षा कवज साबित होगा WSafety मोबाईल मंत्र!!!


No img

India’s situation similar to Sri Lanka- Digvijay on debt and inflation in Lanka


No img

सामंजस्य के अभाव के दौर से गुजरती शिवराज सरकार!


No img

भोपाल अर्बन DIG धर्मेंद्र चौधरी को सालगिराह पर सलामती भरा सलाम!


No img

Narendra Singh Tomar backs up Uma Bharti on liquor ban in Madhya Pradesh


No img

PS बिलखिरिया: सहपाठी ने किया बलात्कार, मंगेतर को भेजे युवती के आपत्तिजनक फोटो


No img

अंदर का मौसम खिज़ा की चपेट में हो तो बाहर खुली बहार की खुशबू भी जज्बों पर छाई खामोशी को तोड़ने में नाकाम रहती है।


No img

भोपाली वीरप्पन चंदन तस्कर चढ़े थाना शाहपुरा पुलिस के हत्थे!!!


No img

गणतन्त्र दिवस पर ग्रहमंत्री मिश्रा ने ग्रहक्षेत्र दतिया में फहराया तिरंगा


No img

Prior investigation of SIT reveals suicide, post created on Nishank’s phone, no tamper with mobile


No img

Indore Nigam worker millionaire , EOW raides clerk’s house


No img

7-year-old child drowns in pond at Ecological Park in Katara Hills, Bhopal