अख़बार की दुनिया मे बेबाक़ी का सबसे बड़ा कलेजा

【 RNI-HIN/2013/51580 】
【 RNI-MPHIN/2009/31101 】



Jansamparklife.com







या मौला रात हो गयी

21 Oct 2019

no img

-अनम इब्राहीम--

या मौला रात हो गई दिन भर का शोर शराबा सन्नाटे में तब्दील होने लगा शहर के बादशाहों ओर बाशिंदो ने अपने अपने दरवाजे बंद कर लिये और हर शख़्स अपने महबूब से रिश्तों के साथ बिस्तर में चला गया तारें टिमटिमाने लगे और चाँद भी अब आसमान में तैरता हुआ बार बार इस अंधेरें में डूबी दुनिया को घुर रहा है और मैं अनम तनहा तनहाईयों में सिमटा हुआ लीहाफ़ से अपने बदन को छुपा नींद आने का इन्तेजार कर रहा हूँ। नींद के आने का तो कहीं दूर से दूर तक नामोनिशां नजर नही आता बल्कि बिन बुलाए मेहमान की तरह सोच की सलाखें चिंता के शोलोँ में तपकर सुर्क लाल मेरे दिलों दिमाग में धस्ते चले जा रही है हजारों सवाल एक साथ मेरे दिल में उठ कर मुझे बेकरार कर रहे है केसी है ये पत्रकारिकता जो देश में कलम के दम से बेरोजगारी खत्म नही कर पाई?? जब की सालों से शासन के शासकों द्वारा योजनाओं का बीज देश के सभी अख़बारों टीवी एफएम पर विज्ञापनों की शकल में बोयें जा रहे है जिसका पौधा बेरोजगार जवानों ओर जरुरतमंदो की सोच में पनपता है और योजनाओ का लाभ लेने की कोशिशो में मुरझा भी जाता है। आज कल की मीडिया सत्ताधारी सरकार पक्ष विपक्षी राजनेतिक पार्टियों और फ़िल्मी सितारें विदेशीयों के कारोबार की खबरों ओर विज्ञापनों पर पूरी तरह आँखें जमाई बेठी है और खुद अपनी ही पिट के पीछे समाज में पनपरहे समस्याओं के सेलाब से बेखबर होने का ढोंग कर रही है। केसी है ये पत्रकारिकता की कलम की ताकत जो देश भर में करोडों भिक्षा मांगने वाले कमजौर बुजुर्ग व मासूम बच्चे और बेशुमार बेसहारा अपाहिजों को राहत नही पंहुचा पाई?? जब की इन किस्मत के मारों की तादाद देश के फुत्पात गली चोराहे और बाज़ारों में दिन दुगनी रात चोगनी होते जा रही है। एक नुमाईशी फ़िल्मी भांड की नंगी तस्वीर को बड़े बड़े अख़बार जगा देते है लेकिन जिस रास्तें से मीडिया के नुमाईंदे रोज एक ही मासूम बच्चे को भीख मांगते देखते है, एक ही बुड़े बदहाल इन्सान को एक ही दरख्त के निचे महीनो से देख रहे है उन के हक के लिये अखबार में जगह देने में मीडिया को क्यों कराहियत घिन आती है? आज देश भर में करोडो बचपन मासूमियत सा जहन लिये भीख मांगने की राह पर चल दिये है और ये बिना सरपरस्ती का बचपन नशे और अपराध की गहराई में डूब रहा है हजारो बूढ़ी जिन्दगी सड़कों के किनारे बिन आधारकार्ड बिन परिचयपत्र, राशनकार्ड के जिन्दगी बसर कर रही है। सत्ता के सौदागरों की नजरअंदाजगी तो समझ आती है क्यों की ये सब उसके वोट नही है लेकिन क्या मीडिया इन्हें भारतीयों में शुमार नही समझती? अनम तुम बेकार हो जिस कश्ती पर सवार हो उस के ही खिलाफ अल्फाज़ उगल रहे हो! दरअसल में जानता हूँ मीडिया का जहाज इन दिनों बरमुडा ट्रेंगल की दिशा पर जा रहा है। मैं क्या करूं अकेला चना भाड़ थोड़ी न फ़ोड़ता है, अनम की तो इन दिनों एसी हालत है मर्ज़ बड़ता गया जो जो दवा की मेने। ये रात भी नजाने मुझसे कोनसी दुश्मनी निकालती है एक ख्याल चिंता का देती है तो दूसरा हाथ में लेकर खड़े रहती है जेसे ही एक ख्याल रात की ख़ामोशी मेरे दिल में पैदा करने आती है मे डर से सहेम सा जाता हूँ। सुबह होने चली सोच का संघर्ष लगभग खत्म होने पर है। आसमान पर पसरे पड़े तारे सिमटने लगे ओर चाँद भी रात से पलायन करने लगा, रात भी अपनी ख़ामोशी से भरे सन्नाटे को समेट सिने से लगा जाते जाते मेरी आखों में आखें डाल जहरीली मुस्कराहट बिखेरते हुए मुझे कहते जा रही है अनम अभी खेल खत्म नही हुआ शाम ढलते ही में फिर लोट आउंगी। अँधेरे मैं लतपत रात सुबह की अंगडाईयाँ देख रात अपने बदन को झटककर अंधेरों का कालापन रौशनी के गहरेपन की खाई में गिरा रही है रात धीरेधीरे अंधेरे से जुदा होके अपनी हस्ती मिटाने चली है रात को पता है सुबह की बस्ती में ज़माने के मुल्क बसते है। उफ़ ये रात क्यों होती है।

Blog


Latest Updates

No img

झाबुआ में उपचुनाव में ज़हर घोलेगी नाथ की मौज़ूदगी या गुटबाज़ी से ही चल जाएगा काम??


No img

देशभर में 100 दिन के दौरे से क्या शाह धो देंगे मोदी सरकार के पाप?


No img

आतंकियों ने सीआरपीएफ और पुलिस पर फेंका ग्रेनेड, 6 जवान घायल


No img

वतन-ए-हिन्दुस्तां तुझे गणतंत्र का दिन मुबारक़ संविधान की आमद मरहबा


No img

बीजेपी के नेताओ ने पहले हनुमान को दलित फिर जाट और अब मुसलमान बना डाला!!


No img

रोडछाप कुत्तों के हौसले हुए बुलंद झुंड में किया युवक पर हमला!


No img

दोषी कितना भी बड़ा हो बख्शा नहीं जाएगा: बाला बच्चन


No img

मप्र: कारोबारी को अगवा कर 20 लाख की फिरौती मांगने वाले तीन किडनैपर गिरफ्तार


No img

होटल में दंपत्ति ने दो बच्चों सहित खाया जहर, दंपत्ति की मौत


No img

दूसरे प्रदेशों की तुलना में मध्यप्रदेश में शराब कि दुकानें कम, दुकानों की तादात बढ़ाने की तैयारी में सरकार


No img

भोपाल जेपी अस्पताल: जीवित बच्चे को टेबल पर रख बोले डॉक्टर 'बच्चा मर गया, लो अब जीभर कर देखो इसको'


No img

हवाईअड्डे की सुरक्षा को सेंध लगा हादसे ने रनवे के निकट लिया जन्म!!!


No img

PCC कांग्रेस सरकार का प्रचार छोड़ मीडिया उपाध्यक्ष मोदी सरकार पर बना रहे आर्टिकल!!!


No img

सरकारी विज्ञापन की तरह कुत्ते को भी दीवारो पर उभरे चित्र ने बनाया बेवकूफ़!!!


No img

कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी की Name-Plate में लिखा नाम उर्दू में हुआ अब दुरूस्त!!!