अख़बार की दुनिया मे बेबाक़ी का सबसे बड़ा कलेजा

【 RNI-HIN/2013/51580 】
【 RNI-MPHIN/2009/31101 】



Jansamparklife.com







अब हमीदिया में पनपते मंदिर-मस्जिद के विवाद को खत्म करने का वक़्त आ गया हैं

27 Nov 2019

no img

अनम इब्राहिम_

भोपाल। *राजधानी* के सबसे प्रचलित हमीदिया चिकित्सालय में बीते दिनों धार्मिक आस्था की आग इस हद तक भड़की थी जिससे शहर की शांति शर्म से पानी पानी हो उठी थी जहां सभी धर्मो के मानने वालों को तो धर्मिक आस्था खींचकर ले गयी थी परन्तु मौके पर वहां धर्म के ठेकेदार सब की सब नदारद रहे थे। जिस मंज़र को देख ऐसा महसूस हो रहा था जैसे शहर में धर्म गुरुओं के रहने के बावजूद भी सनातन व इस्लाम मज़हब के मानने वाले यतीमों की तरह बगैर बड़ो के मशवरों के सड़कों पर शहीद होने की मंशा से उतर आए हो और उन लावारिस यतीमों का शिकार प्रशासन ने दबोच—दबोच के जेल की कालकोठरी में भरकर कर दिया हो। जो भी हो धार्मिक गर्म तवों पर आस्था के दलाल अपना पिछवाड़ा रखे बगैर ही चिल्लाने लगे थे…अरे मेरी तो जल गई अरे मेरी तो जल गई_…. तो उन्हें यह बता दूँ कि भोपाल की जनता को धर्म के नाम पर अब और बरगलाना तनिक मुश्किल है। भैया उस विवादित स्थान पर सभी मज़हब के जुम्मेदारों की एक राय हो चुकी हैं और उसका हल भी शासन के साथ बैठकर निकाल लिया गया हैं।

_*मंदिर मस्जिद के तो गली गली में मौजूद हैं दर*_
_*अगर इंसान को इंसान समझता हैं तो मानवता के लिए कुछ कर*_

हमीदिया में वैसे ही तीन मस्जिद 4 मंदिर मौज़ूद हैं जहां पूजा करने व नमाज़ पढ़ने वालों की तादात ऊंट के मुँह में जीरे की तरह होती है उस पर एक और मुद्दई धर्म के आशियानें की पहल या पागलपन है या सोची समझी साजिश?

*_हर धर्म के बीमारों को मिले राहत_*
*_इलाजगाह बनाने में हम सब आगे आएं।_*

*अगर चिकत्सालय नहीं बना तो सुल्तानिया जनाना हमीदिया की जगह शहर के बाहर जंगल मे चला जाएगा।*

राजधानी के 2 ही चिकित्सालय सूबे भर के गरीब मज़लूम बीमार बेसहाराओं के लिए राहत के गढ़ बने हुए हैं उनमें सबसे उच्च स्थान पर हमीदिया चिकित्सालय आता हैं और दूसरे नम्बर पर महिलाओं की इलाजगाह कहे जाने वाला सुल्तानिया जनाना हॉस्पिटल हैं। शहर की बढ़ती आबादी के मद्देनज़र लाखों इंसानी लालों को जन्म देने वाला सुल्तानिया जनाना हॉस्पिटल वक़्त की जरूरत के हिसाब से हमीदिया हॉस्पिटल के कैम्प्स में शिफ्ट हो रहा है और सुल्तानिया की जगह जिला चिकित्सालय बनने वाला है। अगर धर्म के नाम से रोड़ा डालने वाले बीच मे आए तो शासन की मजबूरी होगी कि सुल्तानिया को 25 किलोमीटर शहर से दूर भेसाखेड़ी के आगे शासकीय भूमि पर पहुँचा दिया जाएगा।

*नुकसान*अगर सुल्तानिया हमीदिया की जगह शहर के बाहर की शासकीय भूमि पर जाता है तो लाखों ग़रीब गर्भवती माँ बहनों को डिलेवरी के लिए एक लंबा सफ़र तय करना होगा, नाजाने उनमे से कोई महिला हमारे घर की भी हो सकती हैं।

दोस्तो हिंदुस्तानी होने के हक़ को अदा करो आस्था के आशियानों के साथ साथ समाज को स्कूल चिकित्सालय की उत्तम व्यवस्था की भी हद से ज़्यादा ज़रूरत है। अपनी जान बचाना फ़र्ज़-ए-एन है और दूसरों की जान बचाना ईबादत का आला मक़ाम इसलिये इलाजगाह की बुनियाद रखने में आगे आए और एक अच्छे सच्चे जागरूक नागरिक का क़िरदार निभाए।

पढ़ते रहिए *Jansamparklife.com*

  •  

मध्यप्रदेश मज़हब हिन्दू मुस्लिम


Latest Updates

No img

PS शाहपुरा: परिजनों की गैरमौजूदगी में युवती ने लगाई फांसी


No img

नाहर कारख़ाने की मुलाज़िम महिलाओ से भरी बस पलटी!!!


No img

जमात-ए-तब्लीक को बदनाम करता बेहयाई का बाज़ार !!


No img

टीआई मनीष एसआई कामेश की फिर हुई शिकायत


No img

देवों में देव महादेव शिवशम्भु भोलेनाथ! अपने भगतो के है हर दम साथ!!


No img

PS कोलार : किशोरी पर बना रहा था शादी का दवाब, इंकार करने पर की छेड़छाड़


No img

कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी की Name-Plate में लिखा नाम उर्दू में हुआ अब दुरूस्त!!!


No img

औज़ार-कार की पूजापाठ के बाद, क्या मुख्यमंत्री विजयदशमी पर प्रदेश को देंगे कोई सौगात?!!!


No img

PS कोलार: कार के अंदर सट्टा खेल रहे थे बाप बेटे, पुलिस ने दबोचा


No img

Ps कोहेफिज़ा: दिन एक, अपराध अनेक!


No img

आग की पलटों में घिरीं साध्वी बोलीं...आ रही हूं जला लेना...


No img

बॉलीवुड हुआ लावारिस, नंगे उतरेंगे भांड और शूट किये जाएंगे अभद्र गालियों के साथ सीन्स


No img

छग: घर के बाहर खेल रहे व्यापारी के बेटे को अगवा करने वाले गिरफ्तार


No img

आंसुओ की कीमत


No img

PS पिपलानी: खेलने के बहाने छात्र को घर ले गए सहपाठी, किया अप्राकृतिक कृत्य