अख़बार की दुनिया मे बेबाक़ी का सबसे बड़ा कलेजा

【 RNI-HIN/2013/51580 】
【 RNI-MPHIN/2009/31101 】



Jansamparklife.com







अब हमीदिया में पनपते मंदिर-मस्जिद के विवाद को खत्म करने का वक़्त आ गया हैं

no img

अनम इब्राहिम_

भोपाल। *राजधानी* के सबसे प्रचलित हमीदिया चिकित्सालय में बीते दिनों धार्मिक आस्था की आग इस हद तक भड़की थी जिससे शहर की शांति शर्म से पानी पानी हो उठी थी जहां सभी धर्मो के मानने वालों को तो धर्मिक आस्था खींचकर ले गयी थी परन्तु मौके पर वहां धर्म के ठेकेदार सब की सब नदारद रहे थे। जिस मंज़र को देख ऐसा महसूस हो रहा था जैसे शहर में धर्म गुरुओं के रहने के बावजूद भी सनातन व इस्लाम मज़हब के मानने वाले यतीमों की तरह बगैर बड़ो के मशवरों के सड़कों पर शहीद होने की मंशा से उतर आए हो और उन लावारिस यतीमों का शिकार प्रशासन ने दबोच—दबोच के जेल की कालकोठरी में भरकर कर दिया हो। जो भी हो धार्मिक गर्म तवों पर आस्था के दलाल अपना पिछवाड़ा रखे बगैर ही चिल्लाने लगे थे…अरे मेरी तो जल गई अरे मेरी तो जल गई_…. तो उन्हें यह बता दूँ कि भोपाल की जनता को धर्म के नाम पर अब और बरगलाना तनिक मुश्किल है। भैया उस विवादित स्थान पर सभी मज़हब के जुम्मेदारों की एक राय हो चुकी हैं और उसका हल भी शासन के साथ बैठकर निकाल लिया गया हैं।

_*मंदिर मस्जिद के तो गली गली में मौजूद हैं दर*_
_*अगर इंसान को इंसान समझता हैं तो मानवता के लिए कुछ कर*_

हमीदिया में वैसे ही तीन मस्जिद 4 मंदिर मौज़ूद हैं जहां पूजा करने व नमाज़ पढ़ने वालों की तादात ऊंट के मुँह में जीरे की तरह होती है उस पर एक और मुद्दई धर्म के आशियानें की पहल या पागलपन है या सोची समझी साजिश?

*_हर धर्म के बीमारों को मिले राहत_*
*_इलाजगाह बनाने में हम सब आगे आएं।_*

*अगर चिकत्सालय नहीं बना तो सुल्तानिया जनाना हमीदिया की जगह शहर के बाहर जंगल मे चला जाएगा।*

राजधानी के 2 ही चिकित्सालय सूबे भर के गरीब मज़लूम बीमार बेसहाराओं के लिए राहत के गढ़ बने हुए हैं उनमें सबसे उच्च स्थान पर हमीदिया चिकित्सालय आता हैं और दूसरे नम्बर पर महिलाओं की इलाजगाह कहे जाने वाला सुल्तानिया जनाना हॉस्पिटल हैं। शहर की बढ़ती आबादी के मद्देनज़र लाखों इंसानी लालों को जन्म देने वाला सुल्तानिया जनाना हॉस्पिटल वक़्त की जरूरत के हिसाब से हमीदिया हॉस्पिटल के कैम्प्स में शिफ्ट हो रहा है और सुल्तानिया की जगह जिला चिकित्सालय बनने वाला है। अगर धर्म के नाम से रोड़ा डालने वाले बीच मे आए तो शासन की मजबूरी होगी कि सुल्तानिया को 25 किलोमीटर शहर से दूर भेसाखेड़ी के आगे शासकीय भूमि पर पहुँचा दिया जाएगा।

*नुकसान*अगर सुल्तानिया हमीदिया की जगह शहर के बाहर की शासकीय भूमि पर जाता है तो लाखों ग़रीब गर्भवती माँ बहनों को डिलेवरी के लिए एक लंबा सफ़र तय करना होगा, नाजाने उनमे से कोई महिला हमारे घर की भी हो सकती हैं।

दोस्तो हिंदुस्तानी होने के हक़ को अदा करो आस्था के आशियानों के साथ साथ समाज को स्कूल चिकित्सालय की उत्तम व्यवस्था की भी हद से ज़्यादा ज़रूरत है। अपनी जान बचाना फ़र्ज़-ए-एन है और दूसरों की जान बचाना ईबादत का आला मक़ाम इसलिये इलाजगाह की बुनियाद रखने में आगे आए और एक अच्छे सच्चे जागरूक नागरिक का क़िरदार निभाए।

पढ़ते रहिए *Jansamparklife.com*

  •  

मध्यप्रदेश मज़हब हिन्दू मुस्लिम


Latest Updates

No img

आंसुओ की कीमत


No img

ग़रीब घरों को है खाने की ज़रूरत।है कोई रमज़ान में सदक़ा ज़कात देकर मदद करने वाला ???


No img

पुराने शहरवासियों और पुलिस के दरमियां अब होगी दूरियां कम।


No img

लोकायुक्त की कार्रवाई जारी है। रविवार को सीएम कमलनाथ के करीबियों के घर छापा मार कार्रवाई की गई थी। जिसमें


No img

अब तक DIG इरशाद वली ने शहर की सुरक्षा व्यवस्थाओं में कितना लाया सुधार?!


No img

।सिन्धियों के वोट सिखाएंगे रामेश्वर को सबक।।


No img

घटनाओं से सबक लेने के बजाए नई घोषणाएं कर रही सरकार: विश्वास सारंग


No img

ठंड से बुजुर्ग महिला की गई जान, प्रशासन नगर निगम पर उठे सवाल


No img

अड़ीबाजी, रिश्वतख़ोरी के ख़ाकीधारी खलनायक क्राइम ब्रांच के क्रिमिनल!


No img

PS गोविंदपुरा: शादी का वादा कर युवती को बनाया हवस का शिकार


No img

श्रद्धांजलि सभा आयोजित कर गैस पीड़ितों को दी श्रद्धांजलि


No img

महाकाल के भग्त, कार्यवाही में सख़्त, IG रमन सिंह सिकरवार को सालगिराह का सलाम!!!


No img

देवा ओ देवा तेरी आमद मरहबा! महादेव के लाल तेरी आमद मरहबा!!


No img

भाजपा नेता की गैस एजेंसी पर क्राइम ब्रांच की रेड, अधिक मुनाफे के लिए चल रहा था यह काम...


No img

शहर के शाही दरबार जहांनुमा में नाथ कर रहे है निवेशक मुखियाओं का हौसला अफ़ज़ाई