अख़बार की दुनिया मे बेबाक़ी का सबसे बड़ा कलेजा

【 RNI-HIN/2013/51580 】
【 RNI-MPHIN/2009/31101 】



Jansamparklife.com







।सिन्धियों के वोट सिखाएंगे रामेश्वर को सबक।।

no img

अनम इब्राहिम

सिंधी समाज की विरोधी ललकार को सुन फुले शिवराज के भी हाथपेर!!

भोपाल: जात के नाम पर सियासत करके बीजेपी के जो अब कट्टरपंथी मंत्री सरकार के डिब्बों में सवार थे। इस बार प्रदेश की जनता उन्हें हार के प्लेटफ़ॉर्म पर उतार फेंकेगी।

जनसम्पर्कlife

ऐसा ही एक कट्टरवादी विधायक रामेश्वर शर्मा भोपाल नगरी में भी मौज़ूद है जिसने धर्म को सीढ़िया बनाकर सियासत का सफल सफर शुरू किया लेकिन इस भोपाली विधायक के दिल में क्या है वो अक्सर ईश्वर इस के मुंह से निकलवा ही देते है।
जी हां, सिन्धी समाज की मज़हबी आस्था को ठेस पहुँचाने वाला ये वो ही विधायक है जो खुले मंच पर पाकिस्तान की क़ामयाबी की दुआ मांग रहा था।

जनसम्पर्कlife

मध्यप्रदेश में बीजेपी कांग्रेस के कई नेता ऐसे है जो सियासत में सफ़लता का अपहरण करने के लिए धर्म की दलाली कर खुद को दिखावे के देवता दर्शाते दर्शाते नही थकते उनमें से भाजपा के गन्दी जुबां रखने वाले विधायक रामेश्वर शर्मा भी शामिल है जो हमेशा धर्म की दीवार खड़ा कर के सियासत करने के आदि है। वैसे तो विधायक महोदय करोड़ो के होर्डिंग पोस्टर लगा कर खुद को कावड़ यात्रा के नाम पर सनातन धर्म की वाह-वाही लूटते है लेकिन बेचारे पैदल चलने वाले कावड़ियों के लिए रास्तो पर भोजन की व्यवस्था भी नही करवाते। रामेश्वर की जुबान का ज़हर अन्य धर्मों के लिए ही नही निकलता बल्कि उनकी जुबां पर इतनी गन्दी है कि ‘माँ के लोडे बहन के लोडे’ जैसे लफ्ज़ बार बार दोहराते है। पिछले साल तो रामेश्वर की ज़ुबान ऐसी फिसली कि अर्थ का अनर्थ हो गया था। सुनने वाले सकपका गए थे दरअसल रामेश्वर को उनकी ज़ुबान ने ही धोका दे दिया था वो भावुक होकर सच बोल पड़े की पाकिस्तान का नाम वो कश्मीर से कन्याकुमारी तक चाहते हैं। साथ ही रामेश्वर ने पाकिस्तान के लिए मंच पर दुआ भी मांग ली थी लेकिन बाद में जुबान के फिसल जाने का बहाना करने लगे। यही नही रामेश्वर शर्मा का तो विवादों से पुराना नाता है। बड़बोले होने के कारण वे अक्सर विवादों में आ ही जाते हैं। हाल ही में सच्चे भारत वासी सिन्धियों की रामेश्वर ने धार्मिक आस्था को ठेस पहुँचाई है जिस के विरोध में आज पूरा सिन्धी समाज सड़को पर उत्तर आया है जिसे देख खुद शिवराज के भी हाथ-पैर फूल गए है। वक़्त रहते शिवराज को अपनी सियासी साख बचाना चाहिए और रामेश्वर को बीजेपी से बाहर का रास्ता दिखा देना चाहिए वरना आगे ऐसे आस्तीन के सांपो के ज़हर से पार्टी तो दम तोड़ेंगी ही। इस तरह के कट्टरवादी विचारधारा रखने वालों के विरुद्ध पुलिस को भी कार्यवाही वाला रवैया इख़्तेयार कर लेना चाहिए जिससे कि शांति अमन भाईचारा शहर में क़ायम रह सके।

मध्यप्रदेश सियासत


Latest Updates

No img

कम्प्यूटर बाबा ने साध्वी को कहा रावण…शिवराज को ठग, दिग्गी राजा के समर्थन में करेंगे 3 दिन रोड शो


No img

औज़ार-कार की पूजापाठ के बाद, क्या मुख्यमंत्री विजयदशमी पर प्रदेश को देंगे कोई सौगात?!!!


No img

सेक्सी सास और मनचले दामाद का नाज़ायज़ रिश्ता बना मौत का सबब!


No img

अब तक DIG इरशाद वली ने शहर की सुरक्षा व्यवस्थाओं में कितना लाया सुधार?!


No img

मध्यप्रदेश विधानसभा: हिंदी के अलावा उर्दू-सँस्कृत भाषा में भी विधायकों ने ली शपथ!


No img

जयवर्धन की जुबां पर चढ़ा 4200 करोड़ का चकना!!


No img

हथियारों की ईबादत, शस्त्र पूजा में मुब्तिला हुई भोपाल पुलिस!!!


No img

जिनके ख्वाबों की ताबीर जमाना छीन ले वह इसका इंतकाम भी ज़माने से लेते हैं


No img

शहडोल: सोते वक्त बदमाशों ने की दो चौकीदारों की हत्या


No img

मप्र: मंत्री ना बनाने से बसपा विधायक नाराज़ तो अपने क्षेत्र में मनचाहे तबादले नही होने से हीरालाल नही पहुँचे बैठक में


No img

स्कूल के नीचे बेक़री में लगी आग बाल-बाल बचे विद्यालय के बाल!!!


No img

PS पिपलानी: खेलने के बहाने छात्र को घर ले गए सहपाठी, किया अप्राकृतिक कृत्य


No img

यूपी: मायके में रह रही पत्नी की गला काटकर हत्या


No img

जिस प्रेमी के लिए पति को छोड़ा...उसी ने ले ली महिला और उसकी बच्ची की जान


No img

देवा ओ देवा तेरी आमद मरहबा! महादेव के लाल तेरी आमद मरहबा!!