अख़बार की दुनिया मे बेबाक़ी का सबसे बड़ा कलेजा

【 RNI-HIN/2013/51580 】
【 RNI-MPHIN/2009/31101 】



Jansamparklife.com







​तबादलों के तमाशे या ताशों के उल्टे पत्ते??!!!

28 Nov 2019

no img

डीआईजी संतोष कुमार सिंह की  समझदारी: 4 थानों के थानेदार इलाक़ो की ज़रूरत के हिसाब से मुफ़ीद!!!

राजधानी सुरक्षा के गर्म सरिए को  मजबूती से थाम ने वाली कलाई इतनी कमज़ोर नही होती यह बात डीआईजी संतोष कुमार सिंह के मैदानी मन्त्रों कि मालाओं के मोती गिनने से पता चलती है की जनसेवा जनभक्ति जनरक्षा जनसैलाब जनकल्याण जनज़हर जनसम्मान जनजोखम के लिए अच्छे वक़्त पर अच्छे फ़ैसले ही मुफ़ीद होते हैं ! हाल ही में सूबे के वज़ीरख़ाने के मुखिया शहर भोपाल के डीआईजी संतोष ने शहर को सुरक्षा के घेरे में घेरने की जो जबरदस्त नीतियां चलाई हैं वो बड़ी कामगार साबित-ए-क़दम सफ़लता के सतरंज पर शरलॉक होम्स की चाल से कम नही है। चार थानों में मजबूत हिक़मत के हतोड़ो का दाख़िल होना अपराध के कलेजो को कपकपाहट से तर करता दिख रहा है। 

मध्यप्रदेश अफ़सर-ए-ख़ास अन्य पुलिस मुख्यालय


Latest Updates

No img

PS हनुमानगंज: 2 हजार के नकली नोट थमाकर 5 सौ के असली नोट लेकर चंपत हुए जालसाज


No img

नरोत्तम की गिरेबां पर क्या आर्थिक अपराध शाखा डालेगी हाथ ??


No img

ख़ाकी की खाल में खलनायक की चाल चलने वाले टीआई का दोहरा ख़ुलासा!!!


No img

रतलाम में हनी ट्रैप जैसा मामला: प्रेम जाल में फंसाकर युवक के साथ बनाए अश्लील वीडियो, ब्लैकमेल कर मांगे 50 लाख


No img

सेक्सी सास और मनचले दामाद का नाज़ायज़ रिश्ता बना मौत का सबब!


No img

PS एमपी नगर: बलात्कारी की पीड़िता की मां को दी धमकी, केस वापस लो वरना जानसे खत्म कर दूंगा


No img

प्रदेश में अराजकता का माहौल पैदा कर रही भाजपा


No img

Ps कोहेफिज़ा: दिन एक, अपराध अनेक!


No img

ए तकब्बुर, रावण को तो राम ने मार दिया! सोचता क्या है, तू भी अंदर के रावण को मारदे!!


No img

मिलावट के खिलाफ निकाला मार्च, सिलावट दूर करेंगे मिलावट


No img

PS कमलानगर: शादी का वादा कर लिव इन पार्टनर ने किया महिला से रेप


No img

वादे के अनुसार सरकार ने नहीं किया कर्ज माफ, किसान खुदकुशी के लिए मजबूर: गोपाल भार्गव


No img

इंदौर के होटल में सुप्रीम कोर्ट की महिला वकील के साथ बलात्कार


No img

मध्य-भोपाल से मम्मा या मसूद?


No img

‘जय श्रीराम’ नारा राजनैतिक है, अब हमे जय सियाराम बोलना चाहिए: दिग्विजय!!