अख़बार की दुनिया मे बेबाक़ी का सबसे बड़ा कलेजा

【 RNI-HIN/2013/51580 】
【 RNI-MPHIN/2009/31101 】



Jansamparklife.com







जनसुनवाई बन गई धीरे-धीरे झंड सुनवाई!!

12 Feb 2019

no img

अनम इब्राहिम

*कलेक्टर व DIG दफ़्तर में हुई फरियादियों की तादाद कम!!*

जनसम्पर्क – life

“`इंसाफ की तलाश में भटकते मोहताज़ सवाली अफ़सरो के दर से क्यों लोट रहे हैं ख़ाली?“`

भोपाल: क्षेत्रीय थानों और तहसीलों में ज़ुल्म ज़्यादती के शिकार हुए मायूस फरियादियों के लिए 23 जून 2009 का दिन उम्मीदों के उजालों के मानिंद था क्योंकी तमाम इन्साफ़गाहो की दर-ओ-दीवारों से जनता के लिए जनसुनवाई की किरचिया रौशनी बन के फूटने लगी थी उस दौरान शहर की सुरक्षा के लिए एक ही कप्तान काफ़ी था जो अभी वर्तमाम भोपाल आईजी है जयदीप प्रसाद। जयदीप जब भोपाल एसपी हुआ करते थे तब हर मंगलवार को जनसुनवाई के दौरान तक़रीबन 80 से 90 फरियादियों का हुज़ूम दस्तक देता था यही हाल जनसुनवाई का पहले एसएसपी आदर्श कटियार और योगेश चौधरी के समय भी बना हुआ था जब 70-80 फरियादियों के आंकड़े पार हो जाया करते थे। इत्तेफाकन ही ऐसा होता था कि फ़रियादी दोबारा लौटकर आता था लेकिन मौज़ूदा दौर में एक ही फ़रियादी को कई बार अफ़सरों के दफ़्तरों में चक्कर लगाते देखा जाता है 2009 से 14 तक तो ज़्यादातर फरियादियों को जनसुनवाई से तसल्ली नसीब हो जाया करती थी लेकिन 14 के बाद धीरे—धीरे जनसुनवाईयों में फरियादियों की संख्या कम होते चले गई आख़िर क्यों? चलो वजह तलाशते हैं। दरअसल अफ़सरों द्वारा जो जनसुनवाई में निचले स्तर के अधिकारियों को निराकरण के लिए केस फॉरवर्ड किया जाता है उन आम मामलों का आला ज़्यादातर अफसर दोबारा जायज़ा नहीं लेते हैं यही वजह है कि फ़रियादी दोबारा लौटकर अफ़सरों के चक्कर लगाते हैं या मायूस होकर इंसाफ़ की उम्मीद खो देते हैं।

*DIG इरशाद वली के दफ़्तर में कुल सात मामले पहुचे!!*

आज जनसुनवाई के दौरान DIG दफ़्तर में कुल 7 फ़रियादी पहुचे थे जिसमे से एक बुज़र्ग महिला फूलवती थाना छोला मन्दिर से तीसरी बार जनसुनवाई में DIG के पास फ़रियाद लेकर पहुची परन्तु आज भी फूलवती के हाथ उदासी ही लगी।

*कलेक्टर के दरबार में कुल 49 आवेदन जनसुनवाई में पहुचे!!*

भोपाल कलेक्टर के दफ़्तर में हज़ारों अर्ज़िया जनसुनवाई को छोड़कर कर आड़े दिन भी पहुंचती है। लेकिन सुनवाई ऊंट के मुंह मे जीरे के माफ़िक ही नज़र आती है। जनसुनवाई की तो बात ही अलग आज कलेक्टर छुट्टी पर है लेकिन फिर भी जनसुनवाई में 49 फ़रियादी पहुचे हैरत की बात है जिनमें कई तो बुज़र्ग महिलाएं पहले भी कई बार फ़रियाद लेकर पहुंच चुकी हैं राकेश विस्वरी नामक बुजुर्ग पिछले 5 माह से कलेक्टर के चक्कर काट रहे हैं लेकिन मामले का निराकरण अभी तक नहीं हो सका जहां एक ओर पूर्व के कलेक्टरों के द्वारा आवेदन फॉरवर्ड करने के बाद मामले के निपटारे का गम्भीरता से जायज़ा लिया जाता था तो वहीं वर्तमान कलेक्टर आवेदन आगे बढ़ाने के शौकीन हैं यही वजह है कि फरियादियों की तादाद दिन दुगनी रात चौगनी होते चले जा रही है।

भू माफिया, ज़मीन पर ज़बरन कब्ज़े ऐसे दर्ज़नों गम्भीर शिक़ायतों पर कलेक्टर का ज़ोर नही है। कलेक्टर की दहलीज़ पर दम तोड़ते ऐसे सैकड़ों फरियादियों की दास्तां जनसम्पर्क life की अगली ख़बर में पड़ें। तब तक के लिए आसपास के पीड़ितों की अपने स्तर पर रहबरी करें और सतर्क रहें जिससे कि आप को फ़रियादी ना बनना पड़े।

मध्यप्रदेश पुलिस मुख्यालय


Latest Updates

No img

ज़ोहर की नमाज़ अदा की मुस्लिमों ने शिव मंदिर के प्रांगड़ में!!


No img

लोधी पहुंचे विधानसभा, कल तक के​ लिए सदन स्थगित


No img

आज़ाद हिन्दुस्तां तुझ को राष्ट्रवादी मुल्ला का सलाम


No img

मुख्यमंत्री के हाथों हुआ पुलिस वाटर स्‍पोर्ट्स प्रतियोगिता का शुभारंभ


No img

भोपाल का अधिकारी दिल्ली में रिश्वत लेते पकड़ाया


No img

कलेक्टर दफ़्तर के प्रांगण में, दो लाख की रिश्वत लेते रंगेहाथ धराया संयुक्त संचालक!!!


No img

घटनाओं से सबक लेने के बजाए नई घोषणाएं कर रही सरकार: विश्वास सारंग


No img

PS शाहपुरा: शराब कारोबारी ने हड़पे लाखों रूपए, मामला दर्ज


No img

मप्र: जमीन बेचने के विवाद पर पति ने पत्नी को कुल्हाड़ी से मारा, फिर खुद ने लगा ली फांसी


No img

PCC कांग्रेस सरकार का प्रचार छोड़ मीडिया उपाध्यक्ष मोदी सरकार पर बना रहे आर्टिकल!!!


No img

मप्र: कारोबारी को अगवा कर 20 लाख की फिरौती मांगने वाले तीन किडनैपर गिरफ्तार


No img

इंदौर पुलिस के हाथ लगी महिला क्रिकेटर्स पर दाव लगाने वाली ऑनलाइन सट्टेबाजो कि गैंग!!!


No img

PS गुनगा: नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म, प्रेग्नेंट होने पर हुआ खुलासा


No img

हवाईअड्डे की सुरक्षा को सेंध लगा हादसे ने रनवे के निकट लिया जन्म!!!


No img

श्रीनगर: आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फेंका ग्रेनेड, एक नागरिक की गई जान