ज़ोहर की नमाज़ अदा की मुस्लिमों ने शिव मंदिर के प्रांगड़ में!!

इतिहास गवाह है मुल्क़ के माथे को अक़्सर जमाने ने तभी चूमा है जब जब आपसी मोहब्बतों कि महक सात समन्दर पार पहुँची है। “अनम इब्राहिम” हिंदुस्तानी तहज़ीब से जहन को ताज़ा करना हो या सभी मज़हबों की खुशबू से रूह को तर करना हो तो ये असरार गुनगुनाते रहिए मज़हब नही सिखाता आपस मे बैर रखना उत्तरप्रदेश: बुलन्दशहर एक ओर जहां लाखो जामत-ए-तबलीग़ से जुड़े मुस्लिमों की भीड़ इज़्तिमे में शिरकत करने के लिए पैदल व वाहनों से दरियापूर का सफर तय कर रही थी तो वहीं रास्तों पर…

ज़ोहर की नमाज़ अदा की मुस्लिमों ने शिव मंदिर के प्रांगड़ में!!

इतिहास गवाह है मुल्क़ के माथे को अक़्सर जमाने ने तभी चूमा है जब जब आपसी मोहब्बतों कि महक सात समन्दर पार पहुँची है। “अनम इब्राहिम” हिंदुस्तानी तहज़ीब से जहन को ताज़ा करना हो या सभी मज़हबों की खुशबू से रूह को तर करना हो तो ये असरार गुनगुनाते रहिए मज़हब नही सिखाता आपस मे बैर रखना उत्तरप्रदेश: बुलन्दशहर एक ओर जहां लाखो जामत-ए-तबलीग़ से जुड़े मुस्लिमों की भीड़ इज़्तिमे में शिरकत करने के लिए पैदल व वाहनों से दरियापूर का सफर तय कर रही थी तो वहीं रास्तों पर…