जानिए, इस स्वभाव के थे संत नामदेव

नामदेव नाम का एक बालक घर के बाहर खेल रहा था। उसकी मां ने उसे बुलाया और कहा, ‘‘बेटा, अमुक वृक्ष की छाल उतार लाओ, एक आवश्यक दवा बनानी है।’’ मां का आदेश मिलते ही बालक जंगल को चला गया। जंगल में उसने चाकू से पेड़ की छाल खुरची और उसे लेकर वापस आने लगा, मगर उसमें से रस टपकता जा रहा था। बालक का स्वभाव बचपन से ही सत्संगी था। जंगल से लौटते हुए रास्ते में उसे एक महात्मा मिले। नामदेव ने उन्हें झुक कर प्रणाम किया। संत ने…

भविष्य देखने वाले नास्त्रेदमस ने की थी 2018 के लिए ये भविष्यवाणियां, जानिए

धरती पर की भविष्यवक्ता हुए लेकिन महान भविष्यवक्ता नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियां आज भी दुनिया भर के कई वैज्ञानिकों और लोगों के लिए पहेली बनी हुई हैं. नास्त्रेदमस ने आने वाली 20 शताब्दियों के लिए 400 साल पहले जो भविष्यवाणियां की थीं, उनमें से अधिकतर सच साबित हुई हैं. इसलिए पूरी दुनिया के लोगों ने नास्त्रेदमस की किताबों और क्रिस्टल बॉल्स को देखना शुरू कर दिया है. नास्त्रेदमस ने कविताओं के जरिए ये भविष्यवाणियां की थीं. उनकी भविष्यवाणियां इतनी उलझाऊ और अबूझ है कि उसे समझना काफी मुश्किल भरा काम होता है. आइए…

जानिए, कब होगा चातुर्मास व्रत का संकल्प पूरा और शुभ कार्यों का आरंभ

कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी देवोत्थान, प्रबोधिनी एवं देव उठानी एकादशी के नाम से प्रसिद्घ है तथा इस बार यह एकादशी 31 अक्तूबर को है। देव प्रबोधिनी एकादशी को देव दीवाली भी कहते हैं क्योंकि सनातन धर्म की मान्यता के अनुसार इस दिन से ही रुके हुए विवाह आदि के शुभ मुहूर्त भी शुरु होते हैं ,परंतु गुरु अस्त होने के कारण इस बार विवाह आदि उत्सवों के लिए लोगों को 7 नवम्बर तक इंतजार करना पड़ेगा क्योंकि गुरु 7 नवम्बर को ही उदय होंगे। कुछ लोग शुभ…