PS निशातपुरा: दिमागी रूप से कजोर किशोरी ने फांसी लगाकर जान दी

भोपाल। राजधानी भोपाल के निशातपुरा इलाके में कल मंगलवार को एक दिमागी तौर पर कमजोर किशोरी ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। बताया जा रहा है कि किशोरी पूर्व में दो बार खुदकुशी करने की कोशिश कर चुकी है। लेकिन दोनों बार ही परिवार वालों ने बचा लिया था। निशातपुरा थाना पुलिस ने मृग कायम कर शव को पीएम के लिए हमीदिया अस्पताल भेज दिया है।

jansamparklife.com को मिली जानकारी के अनुसार, रमेश अहिरवार शुक्ला प्लांट पुपिल्स मॉल के पीछे झुग्गी में रहते हैं। वह प्लांट पर ही डामर की गाड़ी चलाते हैं। उनके सात बच्चे हैं 5 लड़कियां और दो लड़के। जिनमें 4 बड़ी बेटियों की शादी हो चुकी है। 17 वर्षीय रचना अहिरवार सबसे छोटी बेटी थी और दिमागी तौर पर कमजोर थी। कल मंगलवार को रमेश और बड़ा बेटा काम पर चले गए थे। मां भी मजदूरी करने निकल गई थी। छोटा बेटा बाहर खेलने चला गया था। रचना घर पर अकेली थी तभी उसने फांसी का फंदा बनाकर खुदकुशी कर ली।

जब छोटा भाई घर आया तो रचना को फंदे पर लटके देखा। उसने इसकी सूचना परिजनों को दी। पिता ने पुलिस को फोन किया। मौके पर पहुंची पुलिस ने मृग कायम कर शव को पीएम के लिए भेज दिया है। पुलिस को मृतका के पास से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है जिससे मौत के कारणों का खुलासा होता। ​परिजनों ने बताया कि रचना की मानसिक हालत ठीक नहीं है। उसने दो बार खुदकुशी करने की कोशिश की थी एक बार आग लगाकर और एक बार फांसी लगाकर। लेकिन दोनों ही बार उसे बचा लिया गया था।

Related posts