अख़बार की दुनिया मे बेबाक़ी का सबसे बड़ा कलेजा

【 RNI-HIN/2013/51580 】
【 RNI-MPHIN/2009/31101 】



Jansamparklife.com







बीजेपी के नेताओ ने पहले हनुमान को दलित फिर जाट और अब मुसलमान बना डाला!!

18 Oct 2019

no img

जनसम्पर्क-life

अब तक क्यों नही हुआ योगी, लक्ष्मी नारायण और बुक्कल नवाब पर मुक़दमा दर्ज़??

अनम इब्राहिम

हिंदुस्तान: सियासत की सड़न से सड़ी हुई बदबूदार नालियों का रुख अब पवित्र धार्मिक गलियों की तरफ़ तेज़ी से मुड़ता चला जा रहा है। आस्थाओं के तमाम आशियाने सियासी ज़ुबानों से अपवित्र होते चले जा रहे है बेलगाम बड़बोले नेता सुर्खियों की सलवार में ज़बरन मुहं फसाकर फ़साना बुनने लग रहे है। हैरत की बात है देश में सत्ता कि सवारी कर रहे मोदी के रथ के एक एक पहिये वक़्त के साथ साथ कमज़ोर होते जा रहे, टूटते जा रहे हैं वजह सिर्फ़ पार्टी में मुट्ठीभर बड़बोलो की बेलगाम ज़ुबान है जिससे मज़हबी छेड़छाड़ के लिए नश्तर की तरह लफ्ज़ निकलते है जो बीजेपी के मतों को चारे की तरह चबा डाल रहे है। थोड़े समय पहले ही उत्तरप्रदेश के राजभोगी योगी को मुख्यमंत्री के शाही इंतेज़ामो के बीच लज़्ज़तदार पकवान हज़म नही हो पा रहे थे कि तभी उन्होंने जातपात की हाजमोला खाकर सियासत में शरारत की हद पार कर डाली और करोड़ो लोगो के पूजनीय हनुमान जी की जात पर सवाल खड़े करते हुए उन्हें ब्राह्मण से दलित करार दे डाला जिसके बाद योगी के बयान को मीडिया ने आड़े हाथ लेते हुए पूरी दुनिया मे परोस के पेश किया। बहरहाल हनुमान जी के नाम पर मुशायरा लूटने भाजपा के दूसरे कद्दावर नेता भी कूद पड़े, एक बीजेपी के रत्न बने मंत्री ने जोश में दलीलें देंते हुए बयान जारी कर दिया की बजरंगबली तो जाट हैं, क्योंकि जाट ही दूसरों के मामले में अपनी टांग फंसाता है। हनुमान जी मेरी जाति के थे यूपी बीजेपीमंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण के बयान का बारूद अभी पूरी तरह फैला भी नही था कि भाजपा के मुस्लिम MLC बुक्कल नवाब ने आग में घी डाल के आस्था से जुड़े मामले को और भी भड़का दिया लिहाज़ा इस तरह किसी भी मज़हब के धार्मिक इबादती क़िरदारों की शख्सियतों को सियासी बयानबाज़ी के कठघरे में खड़ा कर के उनके पवित्र नाम की आबरू को रेजा-रेजा कर तारतार करने के बयान सियासी गलियारों में देश के मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति से भी छीन लेना चाहिए। मज़हबी मसलों में टांग अड़ाने का हक़ किसी पार्टी के नेताओ के पास नही रहना चाहिए। मज़हब की अच्छी बातें सामूहिक रूप से धार्मिक स्थलों के भीतर ही अच्छी लगती है उसे सियासत की महफ़िल में उछालकर इस तरह रुसवा नही करना चाहिए। जब जब धार्मिक दलाल सियासत के आसमान पर मनघड़ंत व भडकाऊ शब्दों के खंज़र फेकते रहेंगे तब तब ना जाने कितने आसमानी आस्था के दीवानों के दिल ज़ख्मी हो होते रहेंग। खैर अभी तो 19 चुनावी सियासत के शोले बाक़ी.. आगे आगे देखिए होता है क्या?

सियासत मज़हब


Latest Updates

No img

देशभर में 100 दिन के दौरे से क्या शाह धो देंगे मोदी सरकार के पाप?


No img

मतदान खत्म होते ही चुनावी चादर के बाहर आए बीजेपी-कांग्रेस के अंदरूनी रिश्ते


No img

देवा ओ देवा तेरी आमद मरहबा! महादेव के लाल तेरी आमद मरहबा!!


No img

पीसी शर्मा ने सरकार की गिनाईं उपलब्धियां


No img

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने लगाई अफवाह पर रोक- आदिवासी की ज़मीन नहीं खरीद सकते गैर आदिवासी या सामान्य लोग


No img

PS एमपी नगर: बलात्कारी की पीड़िता की मां को दी धमकी, केस वापस लो वरना जानसे खत्म कर दूंगा


No img

सीएम योगी के आने पर ही परिजन करेंगे कमलेश तिवारी का अंतिम संस्कार, पत्नी बोली-कर लूंगी आत्मदाह


No img

विधानसभा में खुली कमलनाथ सरकार की पोल: शिवराज सिंह चौहान


No img

भोपाल गैस पीड़ितों ने मध्यप्रदेश सरकार पर लगाए गंभीर आरोप, वर्तमान मालिक डाव से साठ गांठ के भी आरोप


No img

क्या विधायक विश्वास सारंग ने ही दिग्विजय के पोस्टर लगवाए थे???


No img

मप्र: हनीट्रैप में फंसे 6 दिग्गज नेता, 4 IPS, 5 IAS समेत पूर्व मंत्रियों के नाम आए सामने


No img

साध्वी 'भगवा शेरनी' हैं तो उन्हें संसदीय दल से क्यों हटाया: पीसी शर्मा


No img

क्या शिवराज ने सही में खाया था जानवरों का गोश्त?


No img

कांग्रेस के राज में भ्रष्टाचार 10 फीसदी बढ़ा, इस्तीफा दें मुख्यमंत्री कमलनाथ: विश्वास सारंग


No img

मप्र: प्रेमिका ने पति और भाई के साथ मिलकर प्रेमी को दी मौत, 12 घंटे में हत्याकांड का खुलासा