अख़बार की दुनिया मे बेबाक़ी का सबसे बड़ा कलेजा

【 RNI-HIN/2013/51580 】
【 RNI-MPHIN/2009/31101 】



Jansamparklife.com







देश के सबसे बड़े ‘भारत छोड़ो’ आन्दोलन ने हिला दी थी अंग्रेजों की जड़ें

no img

मैं तो एक ही चीज लेने जा रहा हूं-आज़ादी! नहीं देना है तो कत्ल कर दो। आपको एक ही मंत्र देता हूं करगें या मरेगें। आज़ादी डरपोकों के लिए नहीं है। जिनमे कुछ कर गुजरने की ताकत है, वही जिंदा रहते हैं। 8 अगस्त 1942 की रात्रि को कांग्रेस महासमिति के समक्ष भारत छोड़ो आंदोलन के प्रस्ताव पर बोलते हुए महात्मा गांधी ने उपरोक्त शब्द कहे, जोकि इतिहास का अहम दस्तावेज बन गए। महात्मा गांधी इस अवसर पर हिंदी और अंग्रेजी में तकरीबन तीन घटों तक बोले। महात्मा की तक़रीर के पूरे समय तक अजब सन्नाटा छाया रहा। ऐसा प्रतीत हो रहा था कि उनका एक एक शब्द में देश की मर्मान्तक चेतना को झिंझोड़ता रहा और उसे उद्वेलित करता रहा।

ठाणे। अमूमन 9 अगस्त को भारत छोड़ो आंदोलन की शुरुआत मानी जाती है. पर बहुत कम लोगों को पता है कि ये आंदोलन 8 अगस्‍त 1942 से आरंभ हुआ था. दरअसल, 8 अगस्‍त 1942 को बंबई के गोवालिया टैंक मैदान पर अखिल भारतीय कांग्रेस महासमिति ने वह प्रस्ताव पारित किया था, जिसे ‘भारत छोड़ो’ प्रस्ताव कहा गया. इसके बाद से ही ये आंदोलन व्‍यापक स्‍तर पर आरंभ किया गया.

“क्‍यों खास था ये आंदोलन”
महात्मा गांधी के नेतृत्‍व में शुरु हुआ यह आंदोलन सोची-समझी रणनीति का हिस्‍सा था. इस आंदोलन की खास बात ये थी कि इसमें पूरा देश शामिल हुआ. ये ऐसा आंदोलन था, जिसने ब्रिटिश हुकूमत की जड़ें हिलाकर रख दी थीं.

“गांधी जी का एतिहासिक भाषण”
गोवालिया टैंक मैदान से गांधीजी ने भाषण दिया. उन्‍होंने कहा, ‘मैं आपको एक मंत्र देना चाहता हूं जिसे आप अपने दिल में उतार लें, यह मंत्र है, करो या मरो’. बाद में इसी गोवालिया टैंक मैदान को अगस्त क्रांति मैदान के नाम से जाना जाने लगा.

“हिल गई अंग्रेजी हुकूमत”
इस आंदोलन के शुरू होते ही गांधी, नेहरू, पटेल, आजाद समेत कई बड़े नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया. अंग्रेजी हुकूमत इतना डर गई थी कि उसने एक भी नेता को नहीं बख्‍शा. उन्‍होंने सोचा कि ऐसा करने से आंदोलन ठंडा पढ़ जाएगा.

“लोगों ने खुद अपना नेतृत्‍व किया”
नेताओं की गिरफ्तारी के बाद जनता ने आंदोलन की बागडोर अपने हाथों में ले ली. हालांकि ये अंहिसक आंदोलन था पर आंदोलन में रेलवे स्‍टेशनों, सरकारी भवनों आदि पर हिंसा शुरू हो गई. अंग्रेज सरकार ने हिंसा के लिए कांग्रेस और गांधी जी को उत्तरदायी ठहराया. पर लोग अहिंसक तौर पर भी आंदोलन करते रहे. पूरे देश में ऐसा माहौल बन गया कि भारत छोड़ो आंदोलन अब तक का सबसे विशाल आंदोलन साबित हुआ. कहा जाता है कि इसकी व्यापकता को देखते हुए अंग्रेजों को विश्वास हो गया था कि उन्हें अब इस देश से जाना पड़ेगा।

  •  

हिंदुस्तान


Latest Updates

No img

कांग्रेस के राज में भ्रष्टाचार 10 फीसदी बढ़ा, इस्तीफा दें मुख्यमंत्री कमलनाथ: विश्वास सारंग


No img

लोकायुक्त की कार्रवाई जारी है। रविवार को सीएम कमलनाथ के करीबियों के घर छापा मार कार्रवाई की गई थी। जिसमें


No img

‘जय श्रीराम’ नारा राजनैतिक है, अब हमे जय सियाराम बोलना चाहिए: दिग्विजय!!


No img

नशे में धुत रहने वाला बेटा 3 माह से अपनी माँ के साथ बना रहा था जिस्मानी रिश्ता, मामला पहुंचा थाने


No img

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने लगाई अफवाह पर रोक- आदिवासी की ज़मीन नहीं खरीद सकते गैर आदिवासी या सामान्य लोग


No img

अंजान मुर्दा जिस्म मिला नाले में, जिसे देख इलाक़ा हुआ भयज़दा!!!


No img

दो महिने पहले लापता हुई लड़की, पुलिस के हाथ अब तक खाली


No img

या मौला रात हो गयी


No img

भोपाल गैस पीड़ितों ने मध्यप्रदेश सरकार पर लगाए गंभीर आरोप, वर्तमान मालिक डाव से साठ गांठ के भी आरोप


No img

आग की पलटों में घिरीं साध्वी बोलीं...आ रही हूं जला लेना...


No img

रीवा: मोड़ पर बस संभाल नहीं सका चालक, ट्रक से टकराने से 9 की मौत


No img

फुटपाथी बाज़ार टीनशेड के व्यापारी निगम कार्यवाही से ख़फ़ा-ख़फ़ा!!!


No img

छग: घर के बाहर खेल रहे व्यापारी के बेटे को अगवा करने वाले गिरफ्तार


No img

कांग्रेस ने नागरिकता संशोधन बिल को बताया संविधान के खिलाफ


No img

राजधानी को अमन चैन एकता भाईचारे का लिहाफ़ ओढ़ाने वाले एसपी अरविंद सक्सेना अब होशंगाबाद को नवाज़ रहे हैं वर्दी की फुर्ती