ए तकब्बुर, रावण को तो राम ने मार दिया! सोचता क्या है, तू भी अंदर के रावण को मारदे!!

Anam Ibrahim ए तकब्बुर, रावण को तो राम ने मार दिया! सोचता क्या है, तू भी अंदर के रावण को मारदे!! कागज़ी भुसेदार रावण को गर लगादी है आग तूने! तो अब फ़िर जरा अपने दिल मे भी थोड़ा झाकले!! छुपा है अहंकार का रावण मन के भीतर! जो करता है ईमान तेरा तितरबितर!! ए दिल, अपने हम निवाले हमराह पर थोड़ा तो तरस खा! इल्ज़ामों की बेड़ियों को काटके ए बहम तू कहीं और जा!!! आज सच की शाम है असत्य का होगा अंतिम संस्कार! माँ से बोल,आज जीतकर…

देवा ओ देवा तेरी आमद मरहबा! महादेव के लाल तेरी आमद मरहबा!!

देवा ओ देवा तेरी आमद मरहबा! महादेव के लाल तेरी आमद मरहबा!! पार्वती की आंख के तारे तेरी आमद मरहबा ! भगतो के दुखहर्ता तेरी आमद मरहबा!! अ आ रे बप्पा तेरा आना मुबारक़ मरहबा! श्रीगणेश से शुरुआत शुभ हुई तेरा आना मरहबा!! भगवान ही नही भगतो का दोस्त भी है तू,तेरा आन मरहबा! लड्डू लाया हूं मैं अकेले ना खाना क्योंकि तेरा आना मरहबा!!

कृष्ण जन्माष्टमी के मौक़े पर हर जगह बीजेपी के लगे बैनर, कांग्रेस का नही लगा कोई भी होडिंग पोस्टर!!!

अनम इब्राहिम अगर प्रदेश में बीजेपी बना रही है कृष्ण जन्माष्टमी तो क्या कमलनाथ जुमा की नमाज़ पढ़ने गए हैं??? मध्यप्रदेश: हर वर्ष शान-ओ-शौकत से कन्हैय्या की सालगिराह का जश्न प्रदेश भर में बीजेपी बनाते आई है। बीजेपी के शासन काल मे रास्ते नुक्क्ड़ चौराहे जन्माष्टमी के होडिंग पोस्टर बैनरो से लद जाया करते थे परंतु आज जन्माष्टमी के मौक़े पर कांग्रेस सरकार की सल्तनत में रास्तो पर सरकार द्वारा जन्माष्टमी की बधाई का कोई भी पोस्टर नज़र नही आ रहा आख़िर क्या वजह है? क्या कमलनाथ कृष्ण को नही…

मप्र: मुख्यमंत्री ने ईद-उल-अज़हा के मौके पर दी प्रदेशवासियों को बधाई, बताया खुदा की राह में कुर्बानी का महत्व

मध्यप्रदेश: मुख्यमंत्री कमल नाथ ने ईद-उल-अज़हा के मौके पर नागरिकों, विशेष रूप से मुस्लिम समुदाय के लोगों को बधाई और शुभकामनाएँ दी है। नाथ ने शुभकामना संदेश में कहा कि यह त्यौहार खुदा की राह से कुर्बानी का महत्व बताता है। इसलिए इसे कुर्बानी या त्याग का त्यौहार भी कहते हैं।

आज आखरी सावन सोमवार, महाकाल मंदिर में रात में होने वाली भस्मारती के लिए उमड़े श्रद्धालु

उज्जैन: आज के दिन सावन सोमवार का चौथा और अंतिम सोमवार है। बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकाल मंदिर में दर्शन के लिए भक्तों का तांता लगा हुआ है। देश-विदेश से यहां श्रद्धालु बाबा के दर्शन के लिए आए हैं। रात के तीसरे पहर में होने वाली भस्मारती के लिए रात 1 बजे से भक्तों की लाइन लगना शुरू हो गयी थी। महाकाल मंदिर में बाबा का दरबार भक्तों से भरा हुआ है। मंदिर में भक्तों की भीड़ है औऱ क्षिप्रा भी लबालब है। श्रद्धालु मोक्षदायिनी क्षिप्रा में स्नान कर…

नाग पंचमी स्पेशल: दूध से हो जाता हैं नाग को इन्फेक्शन, जाने यह बातें

नाग पंचमी स्पेशल: नाग पंचमी का मौका नाग देवता की पूजा और अर्चना करने का मौका होता है। घर में देवताओं के सामने भोग लगाकर लोग नाग को दूध पिलाते हैं लेकिन क्या आपको यह पता था कि ना को दूध पिलाना भी ना के लिए हानिकारक हो सकता है? अमृत तुल्य दूध देवताओं को प्रसन्न करने के लिए अर्पित किया जाता है। लेकिन नाग यानी सर्प प्रजाति के लिए यह प्वाइजन की तरह है। इसका टेस्ट भी सांपों को पसंद नहीं होता। क्योंकि जन्म से दूध से उनका कोई…

शिव के राज में नही बना श्रीलंका में मंदिर, मंत्री पीसी शर्मा ने अलापे धार्मिक राग

भोपाल। देश मे सियासत की सरजमीं पर सबसे पहला हक धर्म की राजनीति का होने लगा हैं, सालो से भाजपा के राग-अलाप को जनता सुनती हैं, सत्ता में भाजपा को बिठाती हैं और फिर वही बार-बार धोखा खाकर भी बाज़ नही आती हैं। पूरे देश में सियासत का बोलबाला सिर्फ मन्दिर-मस्जिद के मुद्दे पर आ अटैक जाता हैं जैसे मानो ना देश वासियों को पानी की ज़रूरत हैं ना बिजली की ना रोज़गार की और ना ही शांति की, देश वासियों को तो केवल चाहिए एक मंदिर या एक मस्जिद…

रमज़ान में खरबूजा मिल्क शेक दिलाएगा गर्मी से राहत

रमज़ान का पाक महिना चल रहा है। इस साल गर्मी बहुत पढ़ रही है लिहाजा खाने पीने में थोड़ी सावधानी बरतनी पढ़ेगी। जितना हो सके ठंडी चीजें खाई जाएं। इफ्तार में भी तली चीजों की बजाए फल और उनका जूस, शर्बत पिया जाए तो इंशाअल्लाह रोजने बहुत आसानी गुजरेंगे। आप हम आपको इफ्तार के लिए खरबूजे का मिल्क शेक की रेसिपी बताते हैं। यह टेस्ट में भी अच्छा है और आपको गर्मी से राहत दिलाएगा। खरबूजा मिल्क शेक  बनाने के लिए जरूरी सामान खरबूजा_Musk melon – 1 किलो, दूध_Milk –…

इस्तक़बाल ए रमज़ान: इस महिने में अल्लाह बंदों पर लुटाता है रहमतों का खजाना

जिस महीने के लिए मुस्‍लिम लोग बेसब्री से इंतजार करते हैं वह पाक महीना रमजान आज से शुरू हो गया है। पाक महीने रमजान की रूहानी चमक से दुनिया एक बार फिर रोशन हो चुकी है और फिजा में घुलती अजान और दुआओं में उठते लाखों हाथ खुदा से मुहब्बत के जज्बे को शिद्दत दे रहे हैं। कल जैसे ही चांद दिखा तभी से लोगों द्वारा अपने अजीज दोस्तों, रिश्तेदारों को मुबारकबाद देने का सिलसिला भी शुरू हो गया। इसके साथ ही अल्लाह के बंदों ने मस्जिदों में पहली तरावीह…

शब-ए-बारात: गुनाहों से तौबा करने की रात

शब-ए-बारात दो शब्दों, शब और बारात से मिलकर बना है, जहाँ शब का मतलब रात होता है वहीं बारात का मतलब बरी होना होता है। इस्लामी कैलेंडर के मुताबिक यह रात साल में एक बार शाबान महीने की 14 तारीख को सूरज डूबने के बाद शुरू होती है। मुसलमानों के लिए यह रात बेहद फज़ीलत की रात मानीजाती है, इस दिन दुनिया के सारे मुसलमान अल्लाह की इबादत करते हैं। वे दुआएं मांगते हैं और अपने गुनाहों की तौबा करते हैं। शब ए बारात को रमजान से 15 दिन पहले…