।।सिन्धियों के वोट सिखाएंगे रामेश्वर को सबक।।

अनम इब्राहिम

सिंधी समाज की विरोधी ललकार को सुन फुले शिवराज के भी हाथपेर!!

भोपाल: जात के नाम पर सियासत करके बीजेपी के जो अब कट्टरपंथी मंत्री सरकार के डिब्बों में सवार थे। इस बार प्रदेश की जनता उन्हें हार के प्लेटफ़ॉर्म पर उतार फेंकेगी।

जनसम्पर्कlife

ऐसा ही एक कट्टरवादी विधायक रामेश्वर शर्मा भोपाल नगरी में भी मौज़ूद है जिसने धर्म को सीढ़िया बनाकर सियासत का सफल सफर शुरू किया लेकिन इस भोपाली विधायक के दिल में क्या है वो अक्सर ईश्वर इस के मुंह से निकलवा ही देते है।
जी हां, सिन्धी समाज की मज़हबी आस्था को ठेस पहुँचाने वाला ये वो ही विधायक है जो खुले मंच पर पाकिस्तान की क़ामयाबी की दुआ मांग रहा था।

जनसम्पर्कlife

मध्यप्रदेश में बीजेपी कांग्रेस के कई नेता ऐसे है जो सियासत में सफ़लता का अपहरण करने के लिए धर्म की दलाली कर खुद को दिखावे के देवता दर्शाते दर्शाते नही थकते उनमें से भाजपा के गन्दी जुबां रखने वाले विधायक रामेश्वर शर्मा भी शामिल है जो हमेशा धर्म की दीवार खड़ा कर के सियासत करने के आदि है। वैसे तो विधायक महोदय करोड़ो के होर्डिंग पोस्टर लगा कर खुद को कावड़ यात्रा के नाम पर सनातन धर्म की वाह-वाही लूटते है लेकिन बेचारे पैदल चलने वाले कावड़ियों के लिए रास्तो पर भोजन की व्यवस्था भी नही करवाते। रामेश्वर की जुबान का ज़हर अन्य धर्मों के लिए ही नही निकलता बल्कि उनकी जुबां पर इतनी गन्दी है कि ‘माँ के लोडे बहन के लोडे’ जैसे लफ्ज़ बार बार दोहराते है। पिछले साल तो रामेश्वर की ज़ुबान ऐसी फिसली कि अर्थ का अनर्थ हो गया था। सुनने वाले सकपका गए थे दरअसल रामेश्वर को उनकी ज़ुबान ने ही धोका दे दिया था वो भावुक होकर सच बोल पड़े की पाकिस्तान का नाम वो कश्मीर से कन्याकुमारी तक चाहते हैं। साथ ही रामेश्वर ने पाकिस्तान के लिए मंच पर दुआ भी मांग ली थी लेकिन बाद में जुबान के फिसल जाने का बहाना करने लगे। यही नही रामेश्वर शर्मा का तो विवादों से पुराना नाता है। बड़बोले होने के कारण वे अक्सर विवादों में आ ही जाते हैं। हाल ही में सच्चे भारत वासी सिन्धियों की रामेश्वर ने धार्मिक आस्था को ठेस पहुँचाई है जिस के विरोध में आज पूरा सिन्धी समाज सड़को पर उत्तर आया है जिसे देख खुद शिवराज के भी हाथ-पैर फूल गए है। वक़्त रहते शिवराज को अपनी सियासी साख बचाना चाहिए और रामेश्वर को बीजेपी से बाहर का रास्ता दिखा देना चाहिए वरना आगे ऐसे आस्तीन के सांपो के ज़हर से पार्टी तो दम तोड़ेंगी ही। इस तरह के कट्टरवादी विचारधारा रखने वालों के विरुद्ध पुलिस को भी कार्यवाही वाला रवैया इख़्तेयार कर लेना चाहिए जिससे कि शांति अमन भाईचारा शहर में क़ायम रह सके।

Related posts