हर राज्य में जीत के साथ कांग्रेस करेगी महागठबंधन: पी चिदंबरम

इंदौर
2014 के लोकसभा चुनाव के बाद लगातार कमजोर हुई कांग्रेस 2019 में क्षेत्रीय पार्टियों से गठबंधन के सहारे वापसी की तैयारी में है। कर्नाटक में जेडीएस के साथ सरकार बनाने और बीजेपी को सत्ता से दूर रखने में कांग्रेस कामयाब हुई को यह फॉर्म्युला जंच गया है। इसी मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा है कि कांग्रेस राज्यवार गठबंधन करेगी और अगर जीत मिली तो यह जीत ‘महागठबंधन‘ की जीत होगी।
मध्य प्रदेश के इंदौर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए चिदंबरम ने कहा, ‘हमें राज्यवार गठबंधन की उम्मीद है और अगर यह गठबंधन हर राज्य में जीतता है तो यह महागठबंधन की जीत होगी। हमें पूरी उम्मीद है कि हम हर राज्य में गठबंधन बनाने में कामयाब होंगे।’

गौरतलब है कि 2019 में मोदी को घेरने के लिए कांग्रेस के नेतृत्व में गोलबंदी हो रही है। जम्मू-कश्मीर से नैशनल कॉन्फ्रेंस, महाराष्ट्र में एनसीपी, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में टीडीपी, उत्तर प्रदेश में एसपी-बीएसपी, बिहार में आरजेडी, तमिलनाडु में डीएमके, पश्चिम बंगाल में टीएमसी, कर्नाटक में जेडीएस और कई अन्य क्षेत्रीय पार्टियां 2019 में कांग्रेस से गठबंधन करने और उसका सहयोग करने पर विचार कर रही हैं।

इन दिनों टीडीपी नेता चंद्रबाबू नायडू बीजेपी के खिलाफ विपक्ष को गोलबंद करने की कोशिशों में लगे हुए हैं। वह लगभग सभी बड़ी पार्टियों के नेताओं से मुलाकात करके उनका मन टटोलने की कोशिशों में लगे हुए हैं। चंद्रबाबू नायडू ने हाल ही में जानकारी दी थी कि बीजेपी विरोधी दलों ने कॉमन प्लैटफॉर्म तैयार करने और आगे के कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार करने के लिए दिल्ली में 22 नवंबर को मीटिंग करने का फैसला किया है।

नायडू ने कहा था, ‘यह विस्तृत रूप से एक बीजेपी विरोधी प्लैटफॉर्म है। यह देश के हित में उठाया गया कदम है। सेव डिमॉक्रेसी, सेव नेशन, सेव इंस्टिट्यूशन ही हमारा अजेंडा है। यही इस समय देश का अजेंडा है।’ नायडू ने हाल ही में पूर्व पीएम एचडी देवगौड़ा, कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी और डीएमके के अध्यक्ष एमके स्टालिन से भी मुलाकात की थी, ताकि वह बीजेपी के खिलाफ क्षेत्रीय पार्टियों को एकजुट कर सकें।

Related posts