हमला झेलने के बाद पाकिस्तानी मंत्रियों के बयान सामने आए

इस्लामाबाद। भारतीय एयरफोर्स ने पाकिस्तान में घुसकर जैश-ए-मोहम्मद के कैंपों को ध्वस्त कर दिया है। भारतीय वायु सेना ने 26 फरवरी को सुबह 3.30 बजे ये हमला किया। 12 मिराज-2000 लड़ाकू जेट विमानों के जरिए पाकिस्तान के बालाकोट, मुजफ्फराबाद और चिकोटी में आतंकी कैंपों पर हमला हुआ। इसमें कई आतंकी ढेर हो गए हैं। इस हमले के बाद पाकिस्तान में खलबली मच गई। सेना और सरकार में बैठकों का दौर शुरू हो गया। भारत की इस कार्रवाई से पाकिस्तान में तनाव की स्थिति बनी हुई है और विपक्षी नेता प्रधानमंत्री इमरान खान के प्रति नाराजगी जाहिर कर रहे हैं। पाकिस्तान की संसद में प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ नारे लगे। संसद में पाकिस्तानी जनप्रतिनिधियों ने शर्म करो इमरान खान के नारे लगाए। पाकिस्तान में हर तरफ अफरा-तफरी का माहौल है।

पाकिस्तान ने क्या कहा?

विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने बाहर पत्रकारों को बताया कि भारत ने ‘आक्रामकता’ दिखाई है। उसने नियंत्रण रेखा को पार किया है। पाकिस्तान के पास जवाब देने का पूरा अधिकार है। इससे पहले सुबह पाकिस्तानी सेना की ओर से प्रतिक्रिया आई पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने एक ट्वीट में कहा कि भारतीय वायु सेना ने नियंत्रण रेखा का उल्लंघन किया है। इस पर पाकिस्तानी वायु सेना ने तुरंत जवाब दिया। भारतीय विमान वापस चले गए।

पाकिस्तान के प्रमुख विपक्षी नेता शेरी रहमान ने कहा कि, “नियंत्रण रेखा के पार ‘भारतीय हमला’ रणनीतिक तौर पर कमजोर और बचकाना कहा जाएगा। कुछ काम तनाव बढ़ाकर सिर्फ वाहवाही लूटने के लिए किए जाते हैं। जाहिर तौर पर इस वक्त मोदी सरकार चुनाव जीतने के लिए ये सब कर रही है। भारत की सत्ताधारी पार्टी के पास और कोई विकल्प नहीं हैं।”

Related posts