स्वाइन फ्लू से मौतों पर चिंतित कमलनाथ, रोकथाम के लिए जरूरी कदम उठाने के दिए निर्देश

भोपाल। मध्यप्रदेश में स्वाइन फ्लू कहर बनकर बरपने लगा है। प्रदेश में स्वाइन फ्लू से अब तक 35 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इतनी मौतों से प्रदेश के मुखिया कमलनाथ भी चिंतित आने लगे हैं। उन्होंने प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को स्वाइन फ्लू को फैलने से रोकने और प्रबंधन के लिये सभी जरूरी कदम उठाने और ऐहतियाती उपाय लागू करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि स्वाइन फ्लू से निपटने के लिये संसाधनों की कोई कमी नहीं है।

उन्होंने इंदौर में स्वाइन फ्लू के टेस्ट के लिये तत्काल वायरोलॉजी लैब खोलने के भी निर्देश दिये ताकि समय पर जाँच रिपोर्ट मिल सके और प्रभावितों को तत्काल इलाज हो। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि स्वाइन फ्लू की रोकथाम के लिये सरकार गंभीर है और प्रभावितों को बेहतर से बेहतर इलाज उपलब्ध करवाने के लिये प्रतिबद्ध है। स्वाइन फ्लू पीडित की जांच तत्काल करें। इसके लिये इंदौर में वायरोलॉजी लैब खोलने के साथ ही पूर्व में प्रस्तावित नगरों में भी वायरोलॉजी लैब खोलने की तैयारी करें।

उल्लेखनीय है कि वर्तमान में यह जाँच सुविधा भोपाल में एम्स और जबलपुर के आईसीसीएमआर में उपलब्ध है। इंदौर सहित अन्य स्थानों पर वायरोलॉजी लैब खुलने पर जाँच रिपोर्ट तत्काल मिल सकेगी और सही समय पर इलाज उपलब्ध हो सकेगा। उन्होंने प्रमुख सचिव स्वास्थ्य को निर्देश दिये हैं कि वे तत्काल मैदानी अधिकारियों को स्वास्थ्य से जुड़े चिकित्सकों और अधिकारियों को सतर्क करें और वे स्वाइन फ्लू रोकथाम की विशेष रणनीतियां तैयार रखें साथ ही इस पर निरंतर निगरानी रखें। उन्होंने निर्देश दिये कि प्रभावितों के तत्काल इलाज में कोई विलम्ब नहीं होना चाहिये।

Related posts