सेंसेक्स धड़ाम: मार्केट कैप 141 लाख करोड़

मुंबई। गुरुवार को केंद्रीय बैंक के मौद्रिक नीतियों की घोषणा किए जाने के बाद से शेयर बाजार में अस्थिरता का माहौल है। इसके अलावा वैश्विक बाजारों में आई गिरावट से भी भारतीय शेयर बाजार में भारी गिरावट देखी गई। हालांकि बीएसई और एनएसई के सभी सूचकांकों में जारी भारी गिरावट के बावजूद शुक्रवार को कारोबार के दौरान टेलिकॉम सेक्टर में 1.74 फीसदी और रियल्टी इंडेक्स में 1.07 फीसदी की उछाल देखी गई। जबकि मेटल इंडेक्स में सबसे ज्यादा 3.47 फीसदी और ऑटो सेक्टर में 3.37 फीसदी की भारी गिरावट देखी गई है।

सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन शेयर बाजार का सेंसेक्स 424.61 अंक या 1.15 फीसदी तक लुढ़का है। निफ्टी भी 125.80 अंक या 1.14 फीसदी की गिरावट में चला गया। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के सेंसेक्स में शुक्रवार को 424.61 अंकों की कमी दर्ज की गई थी। गुरुवार को बाजार 36,971.09 अंकों पर बंद हुआ था, जबकि शुक्रवार को 36,546.48 अंकों पर बंद हुआ। बीएसई में मार्केट कैपिटलाइजेशन भी घटकर 141.07 लाख करोड़ रुपये हो गया है। शुक्रवार को ब्रॉड बेस्ड सूचकांकों में सबसे ज्यादा गिरावट एसएंडपी बीएसई मिड कैप कैप इंडेक्स 1.40 प्रतिशत की आई है।

बीएसई – 100 सूचकांक 1.25 प्रतिशत, एसएंडपी बीएसई – 200 सूचकांक 1.24 प्रतिशत, एसएंडपी बीएसई – 500 सूचकांक 1.22 प्रतिशत, एसएंडपी बीएसई – ऑलकैप सूचकांक 1.20 प्रतिशत, एसएंडपी बीएसई – लार्जकैप सूचकांक 1.23 प्रतिशत और एसएंडपी बीएसई स्मॉलकैप इंडेक्स 0.89 प्रतिशत तक लुढ़के हैं। इसके अलावा सेक्टोरेल सूचकांकों में सबसे ज्यादा गिरावट मेटल इंडेक्स (3.42 प्रतिशत), ऑटो (3.37 प्रतिशत), इंडस्ट्रियल्स इंडेक्स (2.56 प्रतिशत), बेसिक मटेरियल इंडेक्स (2.00 प्रतिशत), युटिलिटीज इंडेक्स (1.97 प्रतिशत), कैपिटल गुड्स (1.94 प्रतिशत), पॉवर (1.90 प्रतिशत), ऑयल एंड गैस (1.72 प्रतिशत), एफएमसीजी इंडेक्स (1.50 प्रतिशत), कंज्युमर डिस्क्रेशनरी गुड्स एंड सर्विसेज इंडेक्स (1.44 प्रतिशत) और एनर्जी इंडेक्स (1.31 प्रतिशत) में आई है। केवल टेलिकॉम सेक्टर (1.74 प्रतिशत) और रियल्टी सेक्टर (1.07 प्रतिशत) ही तेजी में कारोबार करते रहे।

Related posts