शासकीय स्कूल के बच्चों को अब तक यूनिफॉर्म का इंतजार

भोपाल। राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के करीब साठ फीसदी स्कूलों में स्व सहायता समूह मॉडल विफल साबित हो गया है। स्थिति यह है कि इन स्कूलों में करीब 70 लाख विद्यार्थी ऐसे हैं जिन्हें अब तक स्कूल यूनिफॉर्म तक नहीं मिल सकी है। राज्य के शिक्षा विभाग की ओर से हर साल कक्षा पहली से कक्षा आठवीं तक के विद्यार्थियों को दो जोड़ी यूनिफॉर्म के लिए 400 रुपये की राशि खाते में दी जाती थी। पिछले वर्ष से विभाग ने व्यवस्था में बदलाव करते हुए प्रदेश के 33 जिलों में स्वसहायता समूह को स्कूली बच्चों को यूनिफॉर्म वितरण का जिम्मा सौंपा था।

शेष जिलों में विद्यार्थियों के खाते में यूनिफॉर्म की राशि दी जानी थी। लेकिन सत्र समाप्ति की ओर है और परीक्षाओं के बाद नया शैक्षणिक सत्र होने को है, विद्यार्थी अब तक यूनिफॉर्म का इंतजार कर रहे हैं। इन 33 जिलों में 60 फीसदी स्कूल के बच्चों को यूनिफॉर्म नहीं मिल सकी है। जिन जिलों में जहां खाते में राशि पहुंचनी थी, वहां कुछ जिलों में अब तक राशि ही नहीं भेजी गई।

उल्लेखनीय है कि प्रदेशभर में प्राइमरी तथा माध्यमिक स्कूलों की संख्या करीब 1 लाख 15 हजार है। जबकि बच्चों की संख्या 1.22 करोड़ है। इस बारे में स्कूल शिक्षा मंत्री प्रभुराम चौधरी ने कहा कि स्व सहायता समूह के माध्यम से यूनिफॉर्म बनवाकर उनका वितरण किया जाना था। कुछ जिलों में परेशानी आई है। अगले सत्र तक इस व्यवस्था को पूरी तरह दुरुस्त कर लिया जाएगा। यानी अगले सत्र से बच्चों को समय पर यूनिफॉर्म मिल जाएंगी।

Related posts