वेलेंटाइन डे पर बोले राहुल, नफरत से नहीं प्यार से जीतेंगे

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव सिर पर हैं। और चुनाव के मद्देनजर जो चीज सबसे ज्यादा हो रही है वह है नेताओं के शब्द बाण…जो वह एक दूसरे पर चला रहे हैं। इसी सिलसिले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरूवार को कहा कि भारत नफरत का नहीं बल्कि प्यार का देश है और नफरत को नफरत नहीं बल्कि प्यार ही काट सकता है। उन्होंने कहा कि जब वह लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गले मिले तो उनके दिल में मोदी के लिए किसी तरह की नफरत नहीं थी।

राहुल ने कांग्रेस सेवा दल के महाधिवेशन को संबोधित करते हुए आरएसएस पर भी निशाना साधते हुए कहा कि वह देश को बांटने तथा नफरत फैलाने का काम करता है। उन्होंने कहा कि हम 2019 में भाजपा को हराएंगे लेकिन उन्हें मिटाएंगे नहीं। आपने संसद में देखा, एक तरफ नरेंद्र मोदी मेरे परिवार के बारे में, मेरे बारे में उल्टी सीधी बात करते हैं। गाली देते हैं। पूरी कांग्रेस पार्टी का अपमान करते हैं, वह कहते हैं कि कांग्रेस को मिटा दूंगा … और कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष लोकसभा में जाकर उनके गले लगता है। मैं आपको बता रहा हूं कि जब मैं मोदी जी के गले मिला मेरे दिल में उनके लिए नफरत नहीं थी।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि आपने उनका चेहरा देखा होगा। भाई, नफरत को नफरत नहीं काट सकती। नफरत को प्यार ही काट सकता है। मैं अनुभव से बता रहा हूं कि जब मैं उनके गले मिला तो उनके अंदर जो नफरत थी उस नफरत को मेरे प्यार ने दबा लिया। उन्होंने नफरत को डर का दूसरा रूप बताते हुए कहा कि डर के बिना नफरत नहीं हो सकती। जिसे लोग नफरत कहते हैं वह वास्तव में डर है। उन्होंने कहा कि भारत नफरत का देश नहीं बल्कि प्यार का देश है।

राहुल गांधी ने कहा कि भले ही भाजपा और मोदी कांग्रेस मुक्त भारत की बात करते हों लेकिन हम 2019 में उन्हें हराएंगे, हम उन्हें मिटाएंगे नहीं। भाजपा के लिए हिंदुस्तान एक प्रोडक्ट है लेकिन कांग्रेस इसे ऐसा समंदर मानती है जो सब लोगों से मिलकर बना है। उन्होंने सेवादल को पार्टी का महत्वपूर्ण संगठन बताते हुए कहा कि वह विचारधारा का रक्षक है और हमारा सबसे जरूरी संगठन है लेकिन कांग्रेस पार्टी के परिवार में जो जगह और आदर सेवादल को मिलना चाहिए था वह नहीं मिला। इसके लिए मैं माफी मांगता हूं।

Related posts