रिश्वत देने के लिए पैसे नही थे तो नायब तहसीलदार की कार के पीछे बांध दी अपनी भैंस

मध्यप्रदेश के विदिशा ज़िले के सिरोंज शहर का एक अनोखा मामला सामने आया हैं। सिरोंज के रहवासी भूपेंद्र सिंह ने मीडिया के सामने खुलासा करते हुए बताया कि वह पिछले 6 महीने से अपने परिवार की जमीन के मामले को लेकर नायब तहसीलदार के पास चक्कर लगा रहे हैं लेकिन उनका कोई भी काम नही हो पा रहा हैं। तहसीलदार से लाखों विनती और जतन करने के बाद तहसीलदार ने भूपेंद्र से मामला सुलझाने के लिए उनसे रिश्वत मांगी थी जिसके बाद भूपेंद्र के पास पैसा न होने की वजह से उनके पास रखी सबसे कीमती चीज़ उन्होंने तहसीलदार को दे दी। भूपेंद्र की भैंस! भूपेंद्र सिंह के द्वारा लगाए गए आरोपों पर नायब तहसीलदार सिद्धार्थ सिंघल ने इन आरोपों को सिरे से नकार दिया है।
सिद्धार्थ सिंघल का कहना है कि भूपेंद्र सिंह ये सब पब्लिसिटी के लिए कर रहे हैं। लंबी बहस के बाद भूपेंद्र सिंह अपनी भैंस वापस ले गए और अपना एक ज्ञापन मुख्यमंत्री के लिए छोड़ गए। उन्होंने इस ज्ञापन को सब डिविजनल मैजिस्ट्रेट को सौंप दिया है। एसडीएम का कहना है कि भूपेंद्र सिंह के द्वारा जो आरोप लगाए जा रहे हैं, उनकी जांच की जा रही है।

Related posts