मोदी के शपथ ग्रहण में कुछ वक्त ही शेष, यह मेहमान करेंगे शिरकत

नई दिल्ली। 2019 लोकसभा चुनाव में भारी मतों से जीत के बाद नरेंद्र मोदी फिर से आ गए हैं और प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं। आज 30 मई को नई दिल्ली में उनका शपथग्रहण समारोह है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद प्रधानमंत्री एवं मंत्रिपरिषद के सदस्यों को शपथ दिलाएंगे। इस दफ़ा विदेशी मेहमानों में BIMSTEC देशों के लीडर्स शामिल हैं। BIMSTEC यानी बांग्लादेश, श्रीलंका, थाइलैंड, म्यांमार, नेपाल और भूटान। इनके अलावा किरगिस्तान और मॉरीशस भी न्योते गए हैं। देश से भी राजनैतिक और कई फिल्मी हस्तियां शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगी। पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा के शिकार बने लोगों के परिजनों को भी शपथग्रहण समारोह में आमंत्रित किया गया है।

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज गुरुवार सुबह राजघाट और अटल समाधि स्थल पर महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे। वहीं मोदी वॉर मेमोरियल भी पहुंचे और यहां पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान उनके साथ रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, तीनों सेना के प्रमुख भी मौजूद रहे। पीएम मोदी शाम 7 बजे दूसरी बार पीएम के तौर पर शपथ ग्रहण करेंगे।

मोदी ने बंगाल की खाड़ी के तटवर्ती एवं समीपवर्ती देशों के अंतरराष्ट्रीय तकनीकी और आर्थिक सहयोग संगठन बिम्सटेक के सदस्य देशों बंगलादेश, भूटान, नेपाल, श्रीलंका, म्यांमार और थाईलैंड के अलावा किर्गीज गणराज्य और मॉरीशस के नेताओं को समारोह में आमंत्रित किया है। बंगलादेश के राष्ट्रपति हमीद शाम साढ़े सात बजे विशेष विमान से नयी दिल्ली पहुंच चुके हैं।

मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविन्द कुमार जगन्नाथ, भूटान के प्रधानमंत्री लोते शेरिंग, म्यांमार के राष्ट्रपति यू विन मिन्त, श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरीसेना, नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली और थाईलैंड के विशेष राजदूत ग्रिसाडा बूनराच कल दोपहर तक पहुंच जाएंगे। शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के वर्तमान अध्यक्ष किर्गीज गणराज्य के राष्ट्रपति सूरोन जीनबेकोव भी आ रहे हैं।

संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आज़ाद, कई अन्य दलों के प्रमुख नेता शपथग्रहण समारोह में शामिल होंगे। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पहले आने की सहमति जतायी थी लेकिन बाद में उन्होंने मना कर दिया।

यह हो सकते हैं कैबिनेट में मंत्री

सूत्रों के मुताबिक पीएम मोदी की नई कैबिनेट में 65 से 70 मंत्री शामिल हो सकते हैं। इनमें शिवसेना और जदयू से 2-2 मंत्री बन सकते हैं। अकाली दल और लोजपा से भी 1-1 मंत्री बनना संभावित है। वहीं एआईएडीएमके से भी 1 मंत्री बनाया जा सकता है।
राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी, रविशंकर प्रसाद, धर्मेंद्र प्रधान, निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, प्रकाश जावड़ेकर, मुख्तार अब्बास नकवी, रामविलास पासवान, जीतेंद्र सिंह, अर्जुनराम मेघवाल, आर के सिंह, बाबुल सुप्रियो, राज्य मंत्री रामदास अठावले, स्मृति ईरानी, सदानंद गौड़ा, किरण रिजीजू, संतोष गंगवार, नरेंद्र सिंह तोमर, पुरुषोत्तम रुपाला, रमेश पोखरियाल निशंक, गिरिराज सिंह राज्यवर्धन राठौर, नित्यानंद राय, किशन रेड्डी, हरसिमरत कौर बादल, प्रह्लाद जोशी, कृष्ण पाल गुर्जर, सुरेश अंगाद, साध्वी निरंजन ज्योति, राव इंद्रजीत सिंह, मनसुख मंडाविया पुरुषोत्तम, रुपाला संजय धोत्रे, सोम प्रकाश, गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुन मुंडा, देबश्री चौधरी, कैलाश चौधरी, थावरचंद गहलोत, अनुप्रिया पटेल।

Related posts