मोदी के वंशवाद पर ब्लॉग के बाद नेता प्रतिपक्ष के बेटे अभिषेक ने चुनाव लड़ने से किया इंकार

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा वंशवाद पर लिखे गए ब्लॉग को पढऩे के बाद मध्यप्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और वरिष्ठ भाजपा नेता गोपाल भार्गव के बेटे अभिषेक ने लोकसभा चुनाव में पेश की गई अपनी दावेदारी वापस ले ली है। इसकी जानकारी उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट पर दी है।

गौरतलब है कि अभिषेक ने गत दिनों लोकसभा चुनाव लडऩे की इच्छा जाहिर करते हुए प्रदेश की सागर, दमोह और खजुराहों सीट से टिकट की दावेदारी पेश की थी। गत 20 मार्च को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ब्लॉग के माध्यम से वंशवाद पर निशाना साधा था। उन्होंने लिखा था कि ”भारत ने देखा है कि जब भी वंशवादी राजनीति हावी हुई तो उसने देश की संस्थाओं को कमजोर करने का काम किया। जब आप मतदान करने जाएं तो आप बीते समय और इस बात का ध्यान रखें कि देश को एक परिवार की सत्ता पिपासा की भारी कीमत चुकानी पड़ती है। याद रखिए, अगर हम अपनी स्वतंत्रता बचाए रखना चाहते हैं तो हमें हर पल सतर्क रहना होगा।”

इस ब्लॉग को पढऩे के बाद अभिषेक ने अपनी दावेदारी वापस ले ली। उन्होंने शुक्रवार को देर रात अपने फेसबुक अकाउंट पर एक मैसेज पोस्ट किया है, जिसमें उन्होंने लिखा है कि ‘आदरणीय मोदी जी और आडवाणी जी के वंशवाद के विरूद्ध दिए गए बयान के बाद स्वयं में अपराधबोध महसूस कर रहा हूँ। इतने बड़े संकल्प को लेकर पार्टी राष्ट्रहित में एक युद्ध लड़ रही है और सिर्फ अपने व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए उस संकल्प की सिद्धि के रास्ते मे रुकावट बनूं, यह भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता होने के नाते मेरा स्वाभिमान मुझे इजाजत नहीं देता। बुंदेलखंड की तीनों सीटो दमोह,सागर,खजुराहो से विचारार्थ मेरा नाम केंद्रीय चुनाव समिति को भेज गया है। मुझे इस लायक समझने के लिए सभी पार्टी के वरिष्ठजनों का हृदय से कोटि कोटि आभार, परंतु आज पुन: जैसा कि मैंने कुछ दिन पूर्व ही सार्वजनिक तौर पर कहा था कि परिवारवाद का कलंक लेकर में राजनीति नहीं करना चाहता हूं। अत: वंशवाद और परिवारवाद के खिलाफ राष्ट्रहित और पार्टीहित में लोकसभा की दावेदारी से में स्वयं को पृथक करते हुए अपनी दावेदारी वापस लेता हूँ। मेरे स्थान पर पार्टी के किसी अन्य समर्पित कर्मठ कार्यकर्ता के नाम पर पार्टी विचार करें, यही निवेदन है।

Related posts