मुंबई ब्रिज हादसा: मृतकों की संख्या छह हुई, इसी पुल से ‘कसाब’ ने की थी फायरिंग

मुम्बई। भारत की आर्थिक राजधानी मुम्बई में गुरुवार शाम छत्रपति शिवाजी टर्मिनस स्टेशन के पास एक फुट ओवर ब्रिज गिरने के कारण छह लोगों की मौत हुई है। जबकि 30 से अधिक लोग घायल हुए हैं। घायलों को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बीएमसी और रेलवे अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है घटना के बाद पुलिस ने यात्रियों को वैकल्पिक मार्ग चुनने की सलाह दी है, क्‍योंकि घटना के बाद यहां यातायात बुरी तरह प्रभावित हुआ है।

घटना के तुरंत बाद बचाव एवं राहत शुरू कर दिया गया। मृतकों की पहचान अपूर्वा प्रभु (महिला, 35), रंजना तांबे (महिला, 40), जाहिद शिराज खान (पुरुष, 32), भक्ति शिंदे (महिला, 40), तपेंद्र सिंह (महिला, 35) और मोहन जी कयागुंडे (पुरुष, 55) के रूप में हुई हैं। आजाद मैदान पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 304 ए (लापरवाही से मौत) के तहत मध्य रेलवे और बीएमसी ऑफिस के संबंधित अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई।

बता दें की यह वही पुल है जब 2008 के आतंकवादी हमले में कसाब ने शिवजी टर्मिनस जाने के लिए ब्रिज का इस्तेमाल किया था। इसके बाद से लोग इसे ‘कसाब ब्रिज’ के नाम से भी बुलाते थे।

प्राप्त जानकारी के अनुसार हादसा गुरुवार शाम करीब 7:30 बजे हुआ। जिस वक्त यह घटना हुई वह मुम्बई की कार्य अवधि का समय होने के कारण पुल के नीचे बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, हादसे के बाद ब्रिज के मलबे में कई लोग दब गए और यहां मौजूद कुछ वाहन भी क्षतिग्रस्त हुए। दूसरी ओर मौके पर पहुंची राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ), रेलवे और मुम्बई पुलिस की टीमों ने तत्काल घायलों को सेंट जॉर्ज हॉस्पिटल और गोकुलदास तेजपाल अस्पताल में पहुंचाया।

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि जिस वक्त यह हादसा हुआ ब्रिज के नीचे बड़ी संख्या में लोग और वाहन मौजूद थे। ऐसे में इस पुल के मलबे में कई लोग दबे हो सकते हैं। इस संभावना को देखते हुए एनडीआरएफ और पुलिस की टीम जल्द से जल्द लोगों को बाहर निकालने के प्रयास कर रही है। इसके अलावा पुल के शेष बचे हिस्से को भी अधिकारियों द्वारा गिरवा दिया गया है, जिससे कि इसके कारण कोई और हादसा ना हो।

Related posts