मारो-मारो…ठायं-ठांय की आवाज निकालने वाले दरोगा को बदमाशों ने मारी गोली, अस्पताल में भर्ती

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यानथ के राज में बदमाशों के भीतर खौफ पैदा करने के लिए पुलिस लगातार एक के बाद एक धड़कपड़ अभियान चला रही है। लेकिन इसके बावजूद अपराधियों के हौसले दिन ब दिन बुलंद होते जा रहे हैं और यही वजह है कि लगातार सूबे में अपराधिक घटनाएं हो रही हैं। इतना ही नहीं बदमाश अब आम आदमी के साथ-साथ पुलिस के तक को नहीं छोड़ रहें। संभल जिले में बाइक सवार बदमाशों ने उस इंस्पेक्टर को निशाना बनाया है जो बीते साल 12 अक्टूबर को एक एनकाउंटर के दौरान बदमाशों को मुंह से ठांय-ठांय की आवाज निकाल कर डरा रहे थे।

एसपी यमुना प्रसाद ने बताया कि बाइक सवार दो बदमाशों ने इंस्पेक्टर मनोज कुमार पर फायरिंग कर दी इसके बाद भागने लेग। पुलिस की ओर से जवाबी कार्रवाई में एक बदमाश घायल हो गया जिसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बदमाशों की ओर से की गई फायरिंग में घायल इंस्पेक्टर मनोज कुमार को भी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज जारी है।

गौरतलब है कि यह वही इंस्पेक्टर मनोज कुमार हैं, जिन्होंने 12 अक्टूबर, 2018 को एक एनकाउंटर के दौरान जब पिस्टल नहीं चला तो उन्होंने मुंह-मुंस से ठांय-ठांय की आवाज निकाल कर बदमाशों को डराने की कोशिश की थी। एनकाउंटर का एक वीडियो भी सामने आया था, जिसमें देखा गया था कि जब पुलिस दारोगा के पिस्टल से गोली नहीं चली तो वे मुंह से ही चिल्लाने लगे, मारो-मारो…ठायं-ठांय। उस वक्त सोशल मीडिया पर इस एनकाउंटर का वीडियो वायर हुआ था। लोगों ने यूपी पुलिस का जमकर मजाक उड़ा था। एनकाउंटर के कुछ ही दिनों बाद पुलिस ने दारोगा मनोज कुमार को सम्मानित करने का भी ऐलान किया था।

उत्तर प्रदेश में जब से बीजेपी की सरकार आई है। लगातार एनकाउंटर किए जा रहे हैं। कई बार योगी सरकार की पुलिस पर बेकसूर लोगों को भी एनकाउंटर में मारने के आरोप लग चुके हैं। सुप्रीम कोर्ट ने भी यूपी में हो रहे एनकाउंटर पर सवाल खड़े किए थे।

Related posts