मप: ट्रेन में लुटेरों का आतंक, चाकू की नोक पर तीर्थ यात्रियों को लूटा

नरसिंहपुर। ट्रेनों में चोरी और लूट का सिलसिला रूकने का नाम नहीं ले रहा है। जीआरपी भले ही यात्रियों की सुरक्षा के लाख दावे करती हो, लेकिन हकीकत इससे कोसों दूर हैं। ऐसा ही एक कांड जबलपुर-इटारसी रेलखंड में फिर सामने आ गया। जहां गुरुवार की रात 06058 अप इलाहाबाद-कन्याकुमारी कुम्भ मेला स्पेशल ट्रेन में नरसिंहपुर से करेली के बीच हथियारबंद नकाबपोशों ने ट्रेन में तीर्थ यात्रियों से मारपीट करते हुए जमकर लूटपाट की। ट्रेन की 5-6 बोगियों में नकाबपोशों ने चाकू, कट्टा चमकाते हुए यात्रियों से जेवर, नगदी व मोबाइल लूट लिये। पीड़ित महिला यात्रियों ने बताया कि चाकू की नोंक पर धमकाते हुए नकाबपोशों ने उनके पहने हुए जेवरात छीन लिये। लूट के दौरान आरोपियों द्वारा की गई चाकूबाजी के कारण कुछ यात्रियों को खरोंचे भी आईं हैं। 8-10 बदमाशों ने इस कांड को अंजाम दिया था।

मिली जानकारी के अनुसार, करीब 25 से 30 यात्री इस लूट का शिकार हुए है। पीड़ित यात्रियों ने बताया कि करीब 8-10 अज्ञात बदमाश नरसिंहपुर आउटर से ट्रेन में दाखिल हुए और उन्होंने चाकू व कट्टे की नोक पर लूटपाट शुरू कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद लुटेरे कठौतिया के पास चेन खींचकर ट्रेन रूकते ही वहां से फरार हो गये। जानकारी मिलने के बाद जीआरपी गाडरवारा थाने के टीआई भी करेली पहुंचे और पीड़ित यात्रियों के नाम लिखने के बाद ट्रेन में ही एफआईआर लिखे जाने की बात कही। घटना के बाद ट्रेन करेली रेल्वे स्टेशन पर करीब डेढ़ घण्टे तक खड़ी रही और रात्रि 12 बजे गन्तव्य की ओर रवाना हुई। यात्रियों ने बताया कि अज्ञात नकाबपोश बदमाशों ने बोगी क्रमांक एस 3, एस 4, एस 5, एस 8, एस 9, एस 10 में दहशत फैलाते हुए जमकर लूटपाट की। उस वक्त ट्रेन में कोई सुरक्षा कर्मी मौजूद नही था। वारदात रात करीब 9 बजे की बतायी गयी है। वहीं ट्रेन करीब 9.45 बजे करेली स्टेशन पहुंच पायी। आला अधिकारियों ने लिया मौके का जायजा घटना की गंभीरता को देखते हुए शुक्रवार को आला अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर खुद निरीक्षण किया।

छिंदवाड़ा डीआईजी जेपी पाठक के अलावा, आरपीएफ कमांडेंट जबलपुर अनिल भालेराव, मुख्य सुरक्षा आयुक्त रेल्वे जबलपुर विजय खातेकर, आरपीएफ असिस्टेंड कमांडेंट जबलपुर प्रशांत यादव, एसआरपी जबलपुर सुनील जैन, नरसिंहपुर एसपी धर्मेंद्र सिंह भदौरिया आदि ने मौके पर पहुंचकर सुराग जुटा रही रेल्वे पुलिस का मार्गदर्शन करते हुए आवश्यक निर्देश दिये। इसके पूर्व भी 8-10 दिन पहले सोनतलाई-बागरातवा में इसी तरह की वारदात हो चुकी है बावजूद इसके रेल्वे पुलिस ने उससे कोई सीख नही ली और निकट समय में ही यह वारदात हो गयी। वारदात के तरीके को देखते हुए पुलिस का पहला शक तो पारधी गिरोह की ओर जा रहा है, हालाकि अन्य दृष्टिकोंणों से भी पुलिस जांच में जुटी है।

Related posts