मप्र: लेडी एल्गिन अस्पताल से चोरी हुआ बच्चा मिला, महिला समेत तीन गिरफ्तार

जबलपुर। शहर के लेडी एल्गिन अस्पताल से मंगलवार दोपहर अगवा हुए नवजात बच्चे को आखिरकार पुलिस ने देर रात खोज निकाला। वारदात को एक महिला ने अपनी कोख भरने के इरादे से अंजाम दिया था। वारदात को अंजाम देने में महिला के किराएदार और अस्पताल की महिला सफाईकर्मी ने मदद की थी। पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया है। मदर टेरेसा नगर में रहने वाली 40 साल की महिला के तीन बच्चे थे और सभी की मौत हो चुकी है। पति की मौत के बाद महिला ने दूसरी शादी की लेकिन उसे कोई संतान नहीं हुई। संतान की चाहत में महिला ने बच्चा चोरी करने की साजिश रची, जिसमें उसने अपने किराएदार और महिला सफाईकर्मी की मदद ली।

मंगलवार को महिला बच्चा चोरी करने के ईरादे से एल्गिन अस्पताल पहुंची। यहां कटियाघाट गौर बरेला निवासी सुलोचना (30) पति राधेश्याम डेहरिया ने करीब पौने 12 बजे एक शिशु को जन्म दिया था। प्रसूति कक्ष से जच्चा-बच्चा को वार्ड क्रमांक-2 पलंग-1 पर भर्ती किया गया। सुलोचना की पहले से दो बेटियां थी, जिसके बाद बेटे के जन्म से घर में खुशी का माहौल था। सुलोचना दोपहर करीब तीन -चार बजे के आसपास नवजात को पलंग पर अकेला छोडक़र वार्ड के बाहर गैलरी में टहलने लगी। इसी बीच पहले वार्ड में आ चुकी आरोपित महिला उसके बेटे को लेकर भाग गई। सुलोचना जब लौटी तो बच्चे को वहां नहीं देखकर चोरी होने की जानकारी परिजनों को दी। आसपास के लोगों ने उसे महिला द्वारा बच्चे को उठाने की बात बताई। यह सुनते ही सुलोचना व अन्य मरीजों के परिजन ने दौड़-भाग शुरू की। वे अस्पताल के गेट तक पहुंचे लेकिन महिला किसी युवक के साथ मालगोदाम चौक की ओर बाइक पर बच्चे को लेकर भाग निकली।

नवजात के चोरी होने के बाद पुलिस हरकत में आई और संदिग्ध महिला की तलाश शुरू की। अंतत: रात 12.30 बजे पुलिस ने नवजात को बरामद कर लिया और आरोपित महिला के साथ उसकी मदद करने वालों को भी दबोच लिया। नवजात को अगवा करने में लेडी एल्गिन अस्पतफाई कर्मचारी प्रभा ने मदद की थी। प्रभा एल्गिन अस्पताल परिसर में स्थित क्वार्टर में ही रहती है। पुलिस ने उसे भी हिरासत में ले लिया है। मरीजों से पैसे वसूलने के मामले में शिकायत मिलने के बाद प्रभा को काम से हटा दिया गया था। पुलिस ने बच्चा परिजनों को सौंपकर आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है।

Related posts