मप्र: मासूम के दुष्कर्मी को 10 वर्ष कैद की सजा

खरगोन। नाबालिग लडक़ी के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपित को द्वितीय सत्र न्यायालय ने शुक्रवार को दोषी ठहराते हुए 10 वर्ष के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। इसके साथ ही आरोपित पर जुर्माना भी किया गया है। यह फैसला द्वितीय सत्र न्यायाधीश गीता सोलंकी ने सुनाया। सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी अमरेंद्र कुमार तिवारी ने बताया कि 27 अगस्त 2017 को नाबालिग लड़की द्वारा थाना बरूड़ में रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी कि वह भगोरिया के समय अभियुक्त लखन की किराणा दुकान पर सामान लेने गई थी। इस दौरान लखन ने उसे दुकान के अंदर बुलाया और उसके साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद उसे यह बात किसी को नहीं बताने को लेकर जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद भी जब मासूम घर पर अकेली रहती थी, तब आरोपित लखन उसके घर जाता और डरा धमका कर उसके साथ दुष्कर्म काम करता था।

इस घटना की पीके मुवेल एवं डीएस सोलंकी तत्कालीन थाना प्रभारी बरूड़ द्वारा अनुसंधान में आवश्यक साक्ष्य एकत्रित कर न्यायालय के समक्ष विचारण के लिए प्रस्तुत किया। द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश गीता सोलंकी द्वारा शुक्रवार को मामले की सुनवाई के दौरान आरोपित को दुष्कर्म का दोषी ठहराते हुए उसे धारा 376(1) (आई)(एन) भादवि में 10-10 वर्ष के कठोर कारावास एवं 10 हजार रुपये का अर्थदंड तथा धारा 450 भादवि में 5 वर्ष के कारावास एवं 5 हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित किया गया। न्यायालय द्वारा पीडि़ता को अभियोजन के निवेदन पर 24 हजार रुपये की क्षतिपूर्ति राशि देने का आदेश भी पारित किया। प्रकरण में पैरवी अभियोजन की ओर से अभियोजन के उप संचालक झबरसिंह मुवेल एवं लोक अभियोजन अधिकारी जेएस तोमर ने की।

Related posts