मप्र: बच्चियों के बलात्कारियों और हत्यारों को सजा ए मौत

इंदौर/विदिशा। इंसानियत को शर्मसार कर देने वाले दो मामलों पर बड़ा फैसला आ गया है। मासूम बच्चियों के साथ बलात्कार फिर उनकी बेरहमी से हत्या करने वाले आरोपियों को कोर्ट ने उम्रकैद और फांसी की सजा सुना दी है। जी हां इंदौर और विदिशा की विशेष अदालतों ने कल सोमवार को अलग-अलग मामलों में दो दरिंदों को फांसी की सजा सुनाई। इंदौर में बच्ची के साथ हुई दरिंदगी का फैसला न्यायाधीश सविता सिंह ने सुनाया, उनके अनुसार मासूम बच्चियों के साथ दरिंदगी की एक ही सजा है वह है सजा ए मौत।

इंदौर

घटना द्वारकापुरी थाना क्षेत्र में 11 महिने पहले यानि 25 अक्टूबर को घटी। आरोपी हनी अटवाल अपनी 4 साल की मुंह बोली भांजी को सुदामा नगर से उठा ले गया था। हनी अटवाल ने बच्ची के साथ रेप किया और फिर बदनामी से बचने के लिए उसकी हत्या कर लाश को नाले में छुपा दिया था। दो दिन बाद बच्ची का शिवाजी मार्केट के पीछे मिला था। पुलिस ने जांच की तो आरोपी की गतिविधियां संदिग्ध दिखाई दीं। पुलिस ने उससे सख्ती से पूछताछ की तो उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया था।

विदिशा

आरेापी रवि उर्फ टोली भोपाल के प्लेटफार्म नंबर 6 निवासी अपनी महिला मित्र की बेटी को ट्रेन से विदिशा लेकर आया और यहां शराब दुकान के पास एक खेत में उसके साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद उसने बच्ची की हत्या कर शव कुएं में फैंक दिया था। रवि मालवीय काे विदिशा की विशेष न्यायाधीश प्रतिष्ठा अवस्थी ने फांसी की सजा सुनाई है।

Related posts