मध्यप्रदेश पुलिस की अनूठी पहल- बाल मित्र थाने, भोपाल के एमपी नगर और बैरागढ़ थाना भी शामिल

भोपाल। मध्य प्रदेश के 12 पुलिस थाना परिसरों में बाल मित्र थानों की शुरूआत की जा रही है। भोपाल के एमपी नगर और बैरागढ़ में बाल मित्र थाने बनकर तैयार है। ये थाने के एक कमरे में संचालित होते हैं। इन थानों को खोलने के पीछे मकसद बाल अपराधियों और थानों में आने वाले बच्चों को एक खुशनुमा माहौल देना है। इन बच्चों को थाने में न रखकर बाल मित्र थानों में रखा जाएगा। ये सब इसलिए किया गया है, ताकि बच्चों को घर जैसा माहौल मिल सके। एमपी नगर थाना परिसर में तैयार किए गए इस बाल मित्र थाने को प्ले स्कूल की तरह तैयार किया गया है। इस थाने को थाना पुलिस ही संचालित करती है। थाने के एक पुलिसकर्मी को बाल मित्र की जिम्मेदारी दी जाती है। वह यहां जाने वाले बच्चों और उनके परिजनों का रिकॉर्ड रखते हैं। बच्चों को बाल मित्र थाने के अंदर रखने के साथ पुलिसकर्मी उनका विशेष ध्यान रखता है। उन पर बच्चे के लिए खाने से लेकर अलग-अलग  खिलौने उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी भी रहती है। बाल मित्र थाने को प्ले स्कूल की तरह डिजाइन किया गया है। इन थानों में जगह प्ले स्कूल की तरह नहीं है, लेकिन सुविधाएं जरूर प्ले स्कूल की तरह देने की कोशिश की जा रही है।
मध्यप्रदेश पुलिस की इस पहल से ना सिर्फ बाल अपराधी बच्चे जो सुधरने के लिए आते हैं खुशनुमा माहौल का एहसास करेंगे बल्कि आगे भविष्य वह अपराध की दुनिया को छोड़कर अच्छे बच्चे बन जाये।

Related posts