भोपाल: पेन नहीं लाया बच्चा तो टीचर ने पीट-पीटकर नीली कर दी पीठ

भोपाल। स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे अक्सर होमवर्क करना या किताब, कॉपी, पेंसिल, पेन लाना भूल जाते हैं। जिसके बदले उन्हें टीचर से सजा भी मिलती है। हम में से भी बहुत से होंगे जिन्हें टीचर से सजा जरूर मिली होगी। पढ़ाई ना करने पर टीचर द्वारा सजा देना कोई गलत बात नहीं है। भारत के लगभग सभी स्कूलों और कोचिंग सेंटरों में बच्चों को सजा मिलती है लेकिन यहीं सजा अगर हद से ज्यादा दी जाए तो उसे सजा नहीं बल्कि अपराध माना जाता है। आज हम आपको एक ऐसे ही टीचर के बारे में बता रहे हैं जिसने महज पेन न लाने पर एक मासूम की बेरहमी से पिटाई कर दी।

मिली जानकारी के अनुसार, अरविंद साहू विद्या नगर में रहते हैं। उनका आठ साल का बेटा भेल के जवाहर लाल नेहरू स्कूल में कक्षा चौथी में पढ़ता है। 23 मार्च को नया सत्र शुरू होने के समय चौथी कक्षा में पहुंचने के साथ विद्यार्थियों को पेंसिल के बजाए पेन लाने के निर्देश दिए गए थे। 26 मार्च को मासूम क्लास में पहुंचा तो पेंसिल से लिखते देख क्लास टीचर ने उसकी पिटाई कर दी। बच्चे ने घर पहुंचकर रोते हुए मां को पिटाई की बात बताई। देखने पर उसकी पीठ पर हाथ के निशान उभरे थे, पिटाई से बच्चे की पीठ नीली पड़ गई थी। अभिभावक बुधवार को बेटे को लेकर स्कूल पहुंचे जहां प्रबंधन ने घटना को नकार दिया। अब पीडि़त मामले की शिकायत उच्च स्तर पर करने जा रहे हैं।

पीड़ित के पिता ने बताया कि वह बेटे को लेकर स्कूल गए थे। जहां प्रिंसपल को पूरे मामले की घटना बताई। प्रिसिपल ने पांच अलग-अलग टीचर्स को बुलाया जिसमें से बेटे ने पिटाई करने वाली टीचर को ही पहचाना। लेकिन प्रिंसिपल और टीचर क्लास के दूसरे बच्चों के ना कहने के आधार पर घटना को नकारते रहे। बच्चों ने पिटाई होते हुए देखी है लेकिन स्कूल प्रबंधन ने बच्चों को इतना डरा दिया है कि वह आंखों में देखा सच तक नहीं बोल पा रहे। अरविंद का कहना है कि आज यदि इस मामले को दबाया तो कल दूसरे बच्चों के साथ ऐसा होगा। इसलिए मैं इस मामले की शिकायत उच्चाधिकारियों को करूंगा।

Related posts