भोपाल के त्रिलंगा इलाके में आया तेंदुआ, घरों में दुबके लोग

भोपाल। एक ज़माना था जब इस धरती पर रहवासी इलाके कम और जंगल अधिक मात्रा में पाए जाते थे। लेकिन फिर जैसे जैसे इंसानों की आबादी बढ़ने लगी तो उसके रहने के लिए जगह की कमी होने लगी। जगह की कमी के चलते उसने धीरे धीरे जंगलों को काटना शुरू कर दिया। ये जंगल काट वे अपने रहने के लिए मकान बनाने लगे। वक़्त बिताता गया और ये जंगल सिमटते चले गए। जंगलों का एरिया कम होने का सबसे बड़ा नुकसान इनमे रहने वाले जंगली जानवरों को हुआ। इनके रहने की जगह बहुत कम होने लगी। नातिज़न ये रहवासी इलाकों में घुसपैठ करने लगे। आप लोगो ने भी ऐसे कई किस्से सुने होंगे जिसमे ये जंगली जानवर रहवासी इलाकों में घुस जाते हैं और फिर हड़कंप मच जाता हैं। इन जंगली जानवरों के इंसानों के करीब आने से कई बार जाने भी चली जाती हैं। जाने वाली ये जान इंसान या जानवर किसी की भी हो सकती हैं। रहवासी इलाके में जानवरों के आतंक से जुड़ा ऐसा ही एक मामला मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में आया है।

भोपाल के त्रिलंगा क्षेत्र की रहवासी कॉलोनी में बीती रात एक तेंदुआ घुस आया। हालांकि, तेंदुए ने किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया, लेकिन तेंदुए की मूवमेंट की खबर से क्षेत्र में दहशत का माहौल है। लोग अपने—अपने घरों में कैद हो गए। तेंदुए का मूवमेंट एक मकान में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। बताया जा रहा है कि बुधवार की रात भी एक तेंदुआ कोलार क्षेत्र में देखा गया था। मीडिया फुटेज के आधार पर वन विभाग का अमला तेंदुए की तलाश में जुट गया है।

जानकारी के मुताबिक, भोपाल के त्रिलंका कालोनी में एक तेंदुआ घूमते हुए कॉलोनी में रहने वाले सतेन्द्र गुप्ता के घर में घुस गया। कुछ देर घर में घूमने के बाद तेंदुआ वहां से वापस लौट गया। तेंदुए की यह मूवमेंट उनके घर में लगे सीसीटीवी कैमरों में कैद हो गई। शहर के काफी अंदर तेंदुए के घुस आने से लोगों में दहशत है। सत्येन्द्र गुप्ता ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर वन विभाग को सूचना दी। घटना की जानकारी मिलते के बाद वन विभाग की टीम ने तेंदुए की लोकेशन ट्रेस करनी शुरू कर दी है।

बताया जा रहा है कि बुधवार की रात कोलार इलाके में भी तेंदुआ देखा गया था, लेकिन अंधेरा होने के कारण तेंदुए की लोकेशन ट्रेस नहीं हो पाई थी। इसी बीच गुरुवार की रात त्रिलंगा इलाके में तेंदुए के मूवमेंट से लोगों में दशहत का माहौल है। लोग घरों से बाहर निकलने में डर रहे हैं। वन विभाग को यह भी सूचना मिली है कि शाहपुरा, आकाशगंगा कॉलोनी में भी तेंदुए का मूवमेंट देखा गया है। रहवासियों के मुताबिक शुक्रवार को अलसुबह करीब 4 बजे यहां भी तेंदुआ एक घर में घुसा था। उसने मकान में रखे गमले गिरा दिए। गमलों से गिरी मिट्टी में तेंदुए के पंजे के निशान मिले हैं।

शाहपुरा के आसपास पहाड़ और जंगल का क्षेत्र है और अधिकारियों का अनुमान है कि तेंदुए इन जंगलों से होकर ही त्रिलंगा तक पहुंचा है। फिलहाल उसे पकडऩे के लिए कवायद जारी है। वन विभाग द्वारा क्षेत्र के लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी गई है। अधिकारियों के मुताबिक तेंदुआ भूखा हुआ तो शिकार के लिए किसी को निशाना बना सकता है। विभाग पैर के निशान और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर तेंदुए को पकडऩे के लिए सर्च अभियान चला रहा है।

https://plus.google.com/u/0/photos/albums/p0gh1f2suptrpc2phhd41pc9tc04u2lvp?pid=6658177403977899186&oid=104528480614159100393

 

Related posts