भाजपा को सिंधिया को टक्कर देने वाले प्रत्याशी की तलाश, रणनीतिकार चिंता में

शिवपुरी। गुना-शिवपुरी संसदीय सीट से कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का चुनाव लड़ना लगभग तय है, लेकिन इस सीट से भाजपा को दमदार प्रत्याशी की तलाश है, जो सीधे सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को टक्कर दे सके। यहां पर भाजपा ने पूर्व में जो प्रयोग किए, उसमें सफलता नहीं मिली। ऐसे में अब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ एक अच्छे प्रत्याशी की तलाश इस संसदीय सीट पर हो रही है।

भाजपा से जुड़े रणनीतिकारों का मानना है कि यदि इस संसदीय सीट पर कोई दमदार और बड़ा प्रत्याशी भाजपा उतारती है तो सांसद सिंधिया को चुनौती दी जा सकती है। अब ऐसे ही प्रत्याशी की तलाश भाजपा में हो रही है। वैसे भाजपा में गुना-शिवपुरी में ऐसा कोई बड़ा चेहरा नहीं है, जो सीधे तौर पर ज्योतिरादित्य सिंधिया को कड़ी टक्कर दे सकता हो। कुछ दिनों पहले पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान को इस सीट से भाजपा प्रत्याशी बनाए जाने की मांग सोशल मीडिया पर जरूर चली थी। सोशल मीडिया पर चलीं खबरों में कुछ लोगों ने मांग की थी कि यदि शिवराज सिंह चौहान को भाजपा यहां से प्रत्याशी बनाती है, तो ज्योतिरादित्य को उनके ही संसदीय क्षेत्र में घेरा जा सकता है।

ऐसे में शिवराज सिंह चौहान अपने राजनीतिक कैरियर में इतना बड़ा कदम उठाएंगे यह सबसे बड़ा सवाल है। क्योंकि यह उनके लिए एक नई सीट होगी। साथ ही ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसा बड़ा चेहरा उनके सामने होगा। वैसे पूर्व में शिवराज सिंह चौहान राघौगढ़ में दिग्गीराजा के खिलाफ विधानसभा चुनाव उन्हीं के क्षेत्र में जाकर लड़ चुके हैं। लेकिन वर्ष 2003 के शिवराज और वर्ष 2019 के शिवराज में बहुत फर्क है। ऐसे में अब भाजपा रणनीतिकारों को यह सोचना पर मजबूर होना पड़ रहा है कि यहां पर मैदान में किसे उतारा जाए। भाजपा में कई नाम चर्चा में – वैसे इस संसदीय सीट पर कई नाम भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चर्चा में चल रहे हैं। इनमें प्रभात झा, वीरेंद्र रघुवंशी, ओएन शर्मा, नारायण सिंह कुशवाह आदि शामिल हैं।

पूर्व में यहां पर भाजपा ने वर्ष 2009 में नरोत्तम मिश्रा और वर्ष 2014 में जयभान सिंह पवैया को मैदान में उतारा था लेकिन दोनों को बड़ी हार का सामना करना पड़ा था। तो क्या वॉकओवर दे देना चाहिए- वर्ष 2014 में पूरे देश में मोदी लहर के बीच भाजपा केंद्र में सत्ता पाने में कामयाब रही थी लेकिन गुना-शिवपुरी संसदीय सीट पर भाजपा प्रत्याशी जयभान सिंह पवैया को एक लाख से ज्यादा वोटों से हार का सामना कांग्रेस प्रत्याशी ज्योतिरादित्य सिंधिया से करना पड़ा था। नरेंद्र मोदी भी स्वयं प्रचार करने के लिए आए थे इसके बाद भी यहां पर भाजपा की दाल नहीं गली और अब तो मोदी लहर भी कमजोर हुई है ऐसे में दमदार प्रत्याशी ही यहां पर ज्योतिरादित्य सिंधिया को टक्कर दे पाएगा।

Related posts