बेटी को भगा ले जाने के शक में युवक के पिता की जिंदा जलाकर हत्या

भोपाल/विदिशा। राजधानी भोपाल से सटे बैरसिया के एक गांव में शुक्रवार को एक अधेड़ व्यक्ति का विदिशा में रहने वाले व्यक्ति द्वारा अपहरण कर लिया गया था। अपहरणकर्ता को शक था कि उनकी बेटी को उस व्यक्ति का बेटा अपने साथ भगाकर ले गया है। इसी शक के चलते युवती के परिजनों ने युवक के पिता को जिंदा जला कर मार डाला। आरोपियों ने मृतक का शव विदिशा से सटे करैयाखेड़ा गांव में फेंककर उसके परिजन को फोन पर हत्या की सूचना भी दी। इस हत्याकांड में बैरसिया पुलिस की लापरवाही भी सामने आ रही है। अपहरण होने के बाद परिजनों ने थाने में शिकायत की थी लेकिन पुलिस ने रिपोर्ट न लिखी और इलाके में ढूंढने की सलाह दे डाली। जब दूसरी बार परिजन थाने गए तब पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की। यदि वक्त पर पुलिस रिपोर्ट लिखकर कार्रवाई शुरू कर देती तो शायद वह व्यक्ति जिंदा होता।

मिली जानकारी के अनुसार, पर्वत विश्वकर्मा बैरसिया थाने के ग्राम बावचिया में रहते थे। उनके परिवार में पत्नी और दो बेटे हैं। पर्वत का बेटा कपिल विदिशा में टैक्सी चलाता था। कपिल का विदिशा में रहने वाले महेंद्र की बेटी से प्रेम प्रसंग चल रहा था। महेंद्र की बेटी तीन दिन पहले अचानक अपने घर से लापता हो गई जिसकी शिकायत महेंद्र ने थाने में दर्ज करवाई। कल शुक्रवार को महेंद्र अपने ड्राइवर गोविंद के साथ बुलेरो से ग्राम बाबचिया पहुंचा और फोन कर पर्वत को बुलाया। पर्वत मिलने पहुंचा तो जबरदस्ती उसे अपनी बुलेरो में बैठाकर ले गया। महेंद्र का आरोप है कि पर्वत का बेटा उनकी बेटी को भगा ले गया है। इसके बाद महेंद्र ने पर्वत के छोटे बेटे को फोन कर कहा कि उनके पिता का अपहरण कर लिया है अगर सलामती चाहते हो तो उसकी बेटी को वापस कर दो वरना अपने पिता का मरा हुआ मुंह देखना।

करण ने इसकी शिकायत बैरसिया थाने में की थी लेकिन पुलिस ने सुबह की रिपोर्ट रात में दर्ज की। आज रविवार को लड़की के परिजनों ने पर्वत को जिंदा जलाकर मार डाला। इसके बाद उसके परिजनों को फोन कर बताया कि पर्वत की लाश विदिशा से सटे करैयाखेड़ा गांव में पड़ी है। पुलिस ने मृग कायम कर शव को पीएम के लिए भेज दिया और मामले की जांच शुरू कर दी है।

Related posts