बिल की राशि निकालने के लिए लेखापाल ले रहा था रिश्वत, लोकायुक्त ने रंगेहाथों दबोचा

भोपाल। प्रदेश में रिश्वतखोरी के मामले कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं। जब तक मुट्ठी गर्म न की जाए तब तक कोई काम ही नहीं होता। जहां एक ओर भ्रष्टाचारियों को लोकायुक्त पुलिस पकड़ रही है फिर भी भ्रष्टाचारी रिश्वत लेने से नहीं चूक रहे हैं। ऐसा ही एक मामला धार जिले में सामने आया है। जहां लोकायुक्त की टीम ने जिला परियोजना समन्वयक ऑफिस में लेखापाल को रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार किया है। आरोप है कि लेखापाल कल्याण शर्मा ने अंकिता फोटोकॉपी के संचालक से समग्र डाटा एंट्री, फोटोकॉपी और ऑनलाइन एंट्री की बिल की राशि के लिए रिश्वत की मांग की थी। टीम ने आरोपी लेखापाल को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मामला दिया। फिलहाल मामले की कार्रवाई जारी है।

मिली जानकारी के अनुसार, जिला परियोजना समन्वयक ऑफिस में पदस्थ लेखापाल कल्याण शर्मा ने अंकिता फोटोकॉपी के संचालक अन्वेश दीक्षित से समग्र डाटा एंट्री, फोटोकॉपी और ऑनलाइन एंट्री की बिल की राशि एक लाख 64 हजार निकालने के लिए 16 हजार रिश्वत मांगी थी। इसकी शिकायत अन्वेश ने लोकायुक्त की टीम से की थी। टीम ने योजना बनाकर लेखापाल को रंगेहाथों गिरफ्तार किया। लोकायुक्त की टीम ने आरोपी लेखापाल के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

Related posts