बारिश से भोपाल में घुली ठंडक, कई जगह नदी नाले उफान पर

भोपाल। राजधानी भोपाल सहित पूरे मध्यप्रदेश में बारिश का सिलसिला जारी है। भोपाल में मौसम में भी ठंडक घुल गई है। राज्य में सक्रिय हुए मानसून के चलते बीते तीन-चार दिनों से हो रही बारिश से मौसम का मिजाज बदल गया है। गर्मी और उसम से राहत है, तापमान में गिरावट आई है। मौसम विभाग के अनुसार, पूर्वी मध्य प्रदेश और उससे लगे छत्तीसगढ़ में कम दवाब का क्षेत्र बना है, जिससे बारिश का दौर जारी है। बीते 24 घंटों के दौरान बैतूल में 26.6 मिलीमीटर, होशंगाबाद में 87.2 मिली मीटर और नरसिंहपुर 33 मिली मीटर बारिश दर्ज की गई है। भोपाल में मंगलवार को अलसुबह से जारी बारिश के चलते स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति पर भी इसका असर पड़ा है।

भोपाल में हो रही लगातार बारिश से बड़े तालाब के जलस्तर में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है। बड़े तालाब का जलस्तर 10 साल बाद 42 घंटे में 6 फीट बढ़कर 1663.20 फीट हो गया है। अब बड़ा तालाब को फुल टैंक लेवल तक पहुंचने के लिए 3.60 फीट की जरूरत है। तालाब फुल टैंक लेवल 1666.80 फीट में होता है। वहीं सीहोर में पार्वती नदी का जलस्तर भी बड़ गया है। अगले 48 घंटों की अवधि में कई स्थानों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। बारिश से जनजीवन प्रभावित है। ग्रामीण क्षेत्रों का शहरों से सड़क संपर्क टूट गया। हालांकि, मंगवार रात से कई स्थानों में बारिश में कमी आने से थोड़ी राहत मिली है। लेकिन नदियां उफान पर हैं। अच्छी बारिश से प्रदेश के बांधों में लगातार पानी बढ़ रहा है।

श्योपुर में पार्वती नदी में उफान से खातौली पुल फिर डूब गया। इससे मंगलवार को श्योपुर-कोटा हाईवे फिर बंद हो गया। वहीं चार दिन बाद नैरोगेज ट्रेन का संचालन फिर शुरू हो गया है। वहीं, मालवा अंचल में हुई बारिश के चलते पार्वती नदी फिर से उफान पर आ गई है। लोगों को बड़ौदा से बांरा होते हुए कोटा जाना पड़ रहा है। इससे अतिरिक्त समय के साथ अधिक खर्च भी उठाना पड़ रहा है। 25 से 27 जुलाई तक यह रास्ता बारिश के चलते पुल पर पानी आने से बंद हो गया था।

Related posts