‘बल्लामार’ विधायक 14 दिन जेल में रहेगा, नहीं मिली जमानत

इंदौर। इंदौर में बीजेपी के कद्दावर नेता कैलाश विजयवर्गीय के बेटे विधायक आकाश विजयवर्गीय को गुंडागर्दी के आरोप में 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। पुलिस ने कल आकाश को गिरफ्तार कर लिया था। जिसके बाद पुलिस ने उन्हें कोर्ट में पेश किया। यहां इंदौर की कोर्ट ने उन्हें जमानत देने से इनकार कर दिया। उन्हें 11 जुलाई तक की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। बता दें की इंदौर से विधायक आकाश ने जर्जर भवन ढहाने की मुहिम के दौरान विवाद के बाद नगर निगम के एक अधिकारी को क्रिकेट के बैट से पीट दिया था। इस घटना के बाद सोशल मीडिया पर इसका एक विडियो भी सामने आया था। नगर निगम के कर्मचारियों की हड़ताल पर जाने की धमकी के बाद आकाश को गिरफ्तार किया गया। मामले की अगली सुनवाई 7 जुलाई को होगी। विधायक तो रात आठ बजे जिला जेल पहुंचा दिया गया।

इस बात के विरोध में उनके समर्थक ने जमकर नारे बाजी की तथा एक समर्थक ने आत्मदाह की कोशिश की। हालांकि, पुलिस प्रशासन ने मशक्कत कर युवक को पकड़ लिया। दरअसल, विधायक आकाश के समर्थक गौरव शर्मा को कोर्ट का यह आदेश हजम नहीं हुआ तो विरोध में उसने आत्मदाह करने का प्रयास किया। हालांकि, पुलिस प्रशासन ने मशक्कत कर युवक को पकड़ लिया।

तमाशबीन बने ननि के 21 कर्मचारी निलंबित

आकाश की दबंगई का खौफ इतना था कि नगर निगम के कर्मचारी अपने अधिकारी को पिटता देखते रहे। लेकिन किसी की हिम्मत नहीं हुई कि उन्हें बचाने जाते। इस मामले में तमाशबीन बने 21 नगर निगम अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है।

कांग्रेस की मांग धाराएं बढ़ाई जांए

दूसरी ओर इंदौर शहर कांग्रेस कमेटी और कांग्रेस पार्षद दल ने विधायक आकाश और उसके साथियों के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई में धाराएं बढ़ाने की मांग की। इसके साथ ही उन्होंने अन्य दोषियों की तत्काल गिरफ्तारी और लापरवाही करने वाले पुलिस कर्मियों को बर्खास्त करने की भी मांग की। अपनी मांगों का ज्ञापन उन्होंने एडीजी वरुण कपूर को सौंपा।

Related posts