बच्चा चोर के आरोप में युवक की पिटाई, बचाने आई पुलिस पर ग्रामीणों ने किया पथराव

कवर्धा/ पंडरिया। देश में मॉब लिंचिंग की वारदातें जारी हैं। झूठी अफवाह के चलते भीड़ ने कई बेकसूर लोगों को पीट—पीटकर मौत के घाट उतार दिया है। लोगों के चोरी, गोरक्षा, मान-सम्मान और धर्म के नाम पर भड़काया जाता है। मॉब लिंचिंग पर अब तक देश में पुलिस प्रशासन ने कोई महत्वर्पूण कदम नहीं उठाया है जिसका नतीजा यह है कि भीड़ खुद कानून को हाथ में ले रही है।ऐसा ही एक मामला फिर सामने आया है। घटना छत्तीसगढ़ के पंडरिया थाना क्षेत्र के पाढ़ी गांव में सोमवार की है। जहां भीड़ ने बच्चा चोरी के शक में एक युवक की जमकर पिटाई कर दी। भीड़ इतनी बेकाबू थी कि उसने पुलिस वालों को भी नहीं छोड़ा…उन पर लाठियां बरसाई और पथराव किया।

जानकारी के अनुसार, सोमवार को पंडरिया में एक युवक घूम रहा था। भटकते हुए वह पाढ़ी गांव पहुंच गया। युवक को बच्चा चोर समझकर भीड़ उस पर टूट पड़ी और उसे जमकर पीटा…सूचना पर पहुंची पुलिस ने युवक को बचाने की कोशिश की तो भीड़ ने पुलिस वालों को घेरकर उन पर लाठियां बरसाईं और पथराव किया। 4 घंटे के बाद ग्रामीणों के चंगुल से छूटकर पुलिसकर्मी युवक को लेकर पंडरिया थाने पहुंचे। ग्रामीणों के हमले में 10 पुलिसकर्मियों को चोटें आई हैं। पुलिस संदिग्ध युवक से पूछताछ कर रही है।

Related posts