पुलवामा: जवानों ने शहीद होकर लिया शहादत का बदला, मास्टरमाइंड गाजी सहित दो ढेर

पुलवामा। 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद पूरे देश में गम का माहौल है। अभी सीआरपीएफ काफिले पर हुए हमले के आंसू सूखे भी नहीं थे कि आज सोमवार 18 फरवरी की सुबह एक बार फिर से 4 जवानों के शहीद होने की खबर आ गई। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में सैन्य बलों और आतंकियों के बीच जारी एनकाउंटर में सुरक्षा बलों ने जैश-ए-मोहम्मद के टॉप कमांडर को मार गिराया है। इस एनकाउंटर में सेना के मेजर सहित चार जवान भी शहीद हुए हैं। ये मुठभेड़ पुलवामा के पिंगलीना में चल रही है। शहीद जवान 55 राष्ट्रीय राइफल्स के थे। मुठभेड़ में मेजर डीएस डोंडियाल शहीद हुए हैं। उनके अलावा हेड कॉन्स्टेबल सेवा राम, अजय कुमार और हरि सिंह भी शहीद हो गए। वहीं जैश-ए-मोहम्मद के 2 आतंकियों को ढेर कर दिया गया है।

JeM कमांडर कामरान पुलवामा जिले में आत्मघाती हमले के घटनास्थल से बमुश्किल 10 किलोमीटर दूर एक मुठभेड़ में मारा गया। सूत्रों ने कहा कि मार गिराए गए दूसरे आतंकी की पहचान बिलाल अहमद नाइक उर्फ राशिद भाई के रूप में हुई है, जो कि एक कश्मीरी आतंकी है। कामरान पुलवामा आतंकी हमले का मास्टरमाइंड था। 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी।

पुलवामा हमले के बाद जम्मू-कश्मीर के रजौरी जिले में नियंत्रण रेखा पर बारूदी सुरंग के विस्फोट में मेजर चितरेश सिंह बिष्ट शहीद हो गए थे। मेजर बिष्ट इलाके में विस्फोटकों की छानबीन के लिए गठित एक बम निष्क्रिय दस्ते की अगुवाई कर रहे थे। इसी दौरान शनिवार को रजौरी के नौशेरा सेक्टर में बारूदी सुरंग का पता चला। उन्होंने एक बारूदी सुरंग को तो निष्क्रिय कर दिया जबकि दूसरी बारूदी सुरंग को निष्क्रिय करने के दौरान वह गंभीर रूप से घायल हो गए और फिर शहीद हो गए।

Image result for गाजी रशीद उर्फ कामरान

Related posts