नीमच जेल ब्रेक: कैदियों को भगाने के लिए जेल प्रेहरी ने लिए थे 1 लाख रुपए, हिरासत में

नीमच: हाल ही हुए जेल ब्रेक कांड का मुख्य आरोपी जेल प्रहरी पंकित शर्मा को शनिवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, बताया जा रहा है कि शर्मा ने ही जेल में कैदियों को भगाने में मदद की थी। 30 जून को पुलिस पंकित को न्यायालय में पेश कर रिमांड पर लेने की मांग भी करेगी। जेल ब्रेक मामले में पहले ही तीन आरोपी पुलिस रिमांड पर हैं, जिनसे अभी भी पूछताछ की जा रही है। गिरफ्तार हुए फरार कैदी लेखराम बावरी से पूछताछ में ही पंकित शर्मा का नाम सामने आया था। आरोपी ने बताया कि जेल से कैदियों को भगाने के लिए पंकित ने एक लाख रुपए लिए थे। जेल ब्रेक की घटना में शामिल होने के बावजूद पंकित सात दिनों तक जेल में ही ड्यूटी करता रहा।

एएसपी राजीव कुमार मिश्रा ने बताया कि कैदियों को जेल से भगाने में मदद करने के एवज में पंकित ने ये रुपए भी लिए थे। पंकित से पूछताछ में और भी कई राज खुल सकते हैं। अब तक की जांच में जेल अधीक्षक आरपी वसुनिया सहित पांच जेल प्रहरी पर गाज गिर चुकी है। इनमें से दो जेल प्रहरियों को पूर्व में गिरफ्तार कर लिया गया था जबकि एक पंकित शर्मा को संलिप्तता सामने आने पर गिरफ्तार किया गया है। पुलिस अब पंकित को न्यायालय में पेश करेगी।

Related posts