धन्यवाद देते हुए मामा ने लिखा गोगोई को पत्र, दरिंदो को जल्द फांसी की मांग की

मध्यप्रदेश के सांसद और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को पत्र लिखकर नाबालिग लड़कियों से बलात्कार और हत्या की बढ़ती घटनाओं का आत्म-संज्ञान लेने के लिए धन्यवाद दिया हैं। साथ ही शिवराज ने पत्र में गोगोई को बताया कि मध्यप्रदेश मे 12 वर्ष तक कि बच्चियों के साथ ऐसे घिनोने अपराध को अंजाम देने वाले दरिंदो पर सीधे फांसी का प्रावधान भी किया हैं। आगे शिवराज ने इसे दरिंदो को जल्द से जल्द फांसी देने की मांग भी की जो लम्बी प्रक्रिया के चलते टल जाया करती हैं।
हैरत की बात यह हैं कि इतने गम्भीर विषय पर प्रदेश के वर्तमान के मुख्यमंत्री ने ना तो बालात्कार जैसी हैवानियत पर मीडिया के समक्ष अपनी कोई प्रतिक्रिया दी ना ही किसी भी न्यायाधीश को अभी तक ऐसा कोई पत्र लिखा हैं। कमलनाथ सरकार में हलचल अब कर्नाटक की दुर्दशा देख और भी बड़ गयी हैं जिसकी वजह से कमलनाथ को तत्काल ही कर्नाटक कांग्रेस की स्तिथि सम्भालने के लिए बेंगलुरु रवाना किया गया। यह फैसला हाई कमान का था कि कमलनाथ को सरकार बचाने के लिए कर्नाटक भेजा जाए जबकि मध्यप्रदेश में कांग्रेस की कोई अच्छी स्तिथि नही दिख पा रही हैं। ऐसे में कमलनाथ का दूसरे राज्य की सरकार बचाने से पहले अपने प्रदेश की सरकार को बचाने में जुट जाना चाहिए।

Related posts