दिग्विजय की पोल पर पोल खोल रहे वनमंत्री उमंग ने जारी किया दिग्विजय का तानाशाही पत्र

मध्यप्रदेश: प्रदेश में कांग्रेस के अंदर ही घमासान छिड़ने के बाद अब हालत बद से बत्तर हो गए हैं। दिग्विजय सिंह ने सभी मंत्रियों को चिट्ठी लिखकर उनके पत्र पर की गई कार्रवाई को लेकर जवाब मांगा था। इस चिट्ठी में मंत्रियों से मिलने का समय भी दिग्विजय सिंह ने मांगा था। इस चिट्ठी के बाद ही उमंग सिंघार ने दिग्विजय सिंह को लेकर कहा था कि वो पर्दे के पीछे से सरकार को चला रहे हैं। साथ ही कई और आरोप भी लगाए थे। इस बयान के बाद उन्होंने लगातार दिग्विजय सिंह को लेकर बयानबाजी की और सोनिया गांधी को चिट्ठी भी लिखी। दिग्विजय सिंह को पत्र लिखकर उमंग ने उनको वक्त भी दिया था जिसके बाद दिग्विजय निर्धारित वक्त पर नही पहुँचे थे। इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस नेता मानक अग्रवाल ने कहा कि मंत्री उमंग सिंघार को समय देने से पहले सोचना चाहिए था। दिग्विजय सिंह पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं। उन्हें तय करना है कि उन्हें जाना है या फिर नहीं। सिंघार चाहते हैं कि दिग्विजय सिंह उनके घर पर आएं। दिग्विजय सिंह अपने को बड़ा नहीं मानते, वह छोटे से छोटे कार्यकर्ता के घर पहुंच जाते हैं। इन सब बातों से एक बात तो साफ हैं कि दिग्विजय सिंह कोई पद ना होने के बाद भी सरकार में बार-बार दखलंदाज़ी कर रहे हैं।

Related posts