दबंगाई दिखा बत्तमीजी करने वाले टोल कर्मचारी को युवकों ने इंदौर टोल प्लाजा पर सिखाया सबक

इंदौर। टोल प्लाजा पर तू-तू मैं-मैं के शिकार या तो लोग बनते हैं या तो टोल के कर्मचारी। पूर्व में टोल प्लाजा के दर्जनों भर से ज़्यादा मामले हर रोज़ आते हैं, कही मारपीट तो कही लड़ाई झगड़ा। टोल प्लाजा पर तैनात कर्मचारियों ने अपनी दादागिरी कर वजनदारी दिखानी चाही तो कर्मचारियों के साथ लोगो ने मारपीट की।मामला मध्य प्रदेश के इंदौर का है। यहां कुछ गाड़ी चालको ने टोल कर्मचारी के साथ जमकर मारपीट की। मारपीट करने वालो की यह करतूत टोल प्लाजा में लगे सीसीटीवी (CCTV) कैमरों में कैद हो गई।
घटना मध्य प्रदेश के इंदौर के महाकालेश्वर टोल प्लाजा की है, जहां दो लोगों की टोल कर्मचारी से टोल चार्ज को लेकर बहस हो गई। इसके बाद मारपीट शुरू हो गई। गाड़ी चालको ने देखते ही देखते टोल प्लाजा पर बने बूथ में घुसकर दो कर्मचारियों पर लात-घूंसों की बरसात कर दी। इस बीच दोनों युवकों ने टोल-प्लाजा पर जमकर उत्पात भी मचाया। टोल कर्मचारियों से मारपीट के बाद दोनों युवक वहां से फरार हो गए, लेकिन उनकी यह सारी करतूत सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई।
घटना के बाद जांच के लिए पहुंची पुलिस ने बताया कि इंदौर स्थित महाकालेश्वर टोल प्लाजा पर दो लोगों ने टोल कर्मचारी के साथ मारपीट की। एक आरोपी का नाम नरेंद्र सिंह पवार है, जबकि दूसरे आरोपी का नाम शेखर सिंह पवार है। पुलिस दोनों ही आरोपियों की तलाश कर रही है। लेकिन सोचने की बात यह हैं कि टोल कर्मचारी आखिर कब तक आने जाने वाले लोगो से बत्तमीजी करेंगे। खबरे यह तो चलती हैं कि राहगीरों ने दबंगाई दिखा टोल प्लाजा के कर्मचारी के साथ हाथापाई की लेकिन यह कोई नही जानता कि टोल कर्मचारी किस भाषा व तरीके का इस्तेमाल करते हैं। राहगीरों से गाली गलौच करके बात करना व बत्तमीजी ने पेश आना। यह अच्छा तरीका नही हैं। टोल प्लाजा के संचालक को चाहिए कि अपने कर्मचारियों को थोड़ा तरीका सिखाये जिससे कि आगे कर्मचारी राहगीरों से अदब से पेश आए।

Related posts