तीसरे दिन का खेल खत्म, ऑस्ट्रेलिया अभी भी 386 रन पीछे

सिडनी। ऑस्ट्रेलिया के बीच चौथे और आखिरी टेस्ट मुकाबले के तीसरे दिन के खेल का रोमांच जारी है। भारत ने अपनी पहली पारी में 622 रनों पर पारी की घोषणा की थी, ऐसे में अब उसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने 6 विकेट खोकर 236 रन बना लिए हैं। भारतीय टीम ने गेंदबाजों के शानदार प्रदर्शन के दम पर सिडनी टेस्ट के तीसरे दिन मैच पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली। ऑस्ट्रेलिया ने स्टंप्स तक 6 विकेट गंवाकर 236 रन बना लिए हैं। पीटर हैंड्सकोम्ब 28* और पैट कमिंस 25* रन बनाकर नाबाद हैं। बारिश की वजह से शनिवार को खेल जल्द रोक दिया गया। रविवार को मैच तय समय से आधे घंटे पहले शुरू होगा। मेजबान टीम भारत की पहली पारी के 622 रन के जवाब में अभी 386 रन पीछे है। भारत की ओर से कुलदीप यादव सबसे सफल गेंदबाज रहे। उन्होंने 3 विकेट अपने नाम किए। कुलदीप के अलावा रवींद्र जडेजा को 2 और मोहम्मद शमी को 1 विकेट मिला। भारतीय गेंदबाज चौथे टेस्ट के तीसरे दिन जल्द से जल्द ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को आउट करने की कोशिश करेंगे।

ऑस्ट्रेलिया टीम की शरूवात सहीं नहीं रही। शमी ने ऑस्ट्रेलिया को दिया चौथा झटका दिया। लैबुशान को रहाणे के हाथों कैच कराके पवेलियन लौटा दिया। वहीं कंगारूओ को तीसरा झटका शॉन मार्श के रूप में लगा। जो जडेजा की गेंदबाजी पर रहाणे को कैच लपकर चले गए। ऑस्ट्रेलिया को दूसरा झटका हैरिस का लगा। जो जडेजा के स्पिन गेंदबाजी के शिकार बने। पहला झटका ख्वाजा के रूप में लगा। कुलदीप यादव ने पुजारा के हाथों कैच कराके वापिस पवेलियन लौटा दिया।

पुजारा भले ही विदेशी धरती पर अपने पहले दोहरे शतक से चूक गए लेकिन उनकी 193 रन की पारी ने ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को पस्त करने में अहम भूमिका निभाई । उन्होंने अपनी पारी में 373 गेंदें खेली तथा 22 चौके लगाये। पंत ने 189 गेंदों पर 15 चौकों और एक छक्के की मदद से नाबाद 159 रन बनाकर कई रिकाॅर्ड अपने नाम लिखवाए। वह ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर शतक जडऩे वाले पहले भारतीय विकेटकीपर बने। रविंद्र जडेजा (81) ने भी अर्धशतक जड़कर ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों के संघर्ष को बरकरार रखने में अपना अहम योगदान दिया। पुजारा ने अपनी पारी 130 रन से आगे बढ़ायी और विदेशी सरजमीं पर अपना उच्चतम स्कोर बनाया। उन्होंने हनुमा विहारी (42) के साथ पांचवें विकेट के लिये 101 और पंत के साथ छठे विकेट के लिए 89 रन की साझेदारी की। पुजारा के आउट होने के बाद पंत ने जडेजा के साथ सातवें विकेट के लिए रिकाॅर्ड 204 रन जोड़े। यह सातवें विकेट के लिए भारत की तरफ से ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नया रिकाॅर्ड है। ऑस्ट्रेलिया की तरफ से नाथन लियोन ने 178 रन देकर चार विकेट लिए। ऑस्ट्रेलिया को दूसरे दिन दस ओवर खेलने का मौका मिला जिसमें उसकी नई सलामी जोड़ी मार्कस हैरिस (नाबाद 19) और उस्मान ख्वाजा (नाबाद पांच) ने सहजता से विकेट बचाए रखे। विराट कोहली ने अपने चारों गेंदबाजों का उपयोग किया लेकिन ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों ने भारतीयों से सबक लेकर क्रीज पर टिके रहने को तरजीह दी।

इससे पहले भारत ने सुबह चार विकेट पर 303 रन से अपनी पारी आगे बढ़ाई। पुजारा ने सातवीं बार 150 रन से अधिक का स्कोर पूरा किया। भारत ने विहारी के रूप में दिन का पहला विकेट गंवाया जिन्होंने लियोन की गेंद पर शार्ट लेग पर कैच दिया। विहारी ने डीआरएस का सहारा लिया लेकिन स्निकोमीटर से लग रहा था कि गेंद ने बल्ले को हल्का स्पर्श किया है। पंत जब आठ रन पर थे तब उनके खिलाफ विकेट के पीछे कैच की अपील को अंपायर ने ठुकरा दिया। टिम पेन ने डीआरएस लिया लेकिन तब गेंद बल्ले पर नहीं लगी थी। पुजारा ने 282 गेंदों पर 150 रन पूरे करने के बाद विदेशी सरजमीं पर अपना सर्वोच्च स्कोर बनाया। इससे पहले विदेशों में उनका उच्चतम स्कोर 153 रन था जो उन्होंने दक्षिण अफ्रीका (जोहानिसबर्ग, 2013) और श्रीलंका (गॉल, 2017) के खिलाफ बनाया था। इसके अलावा पुजारा (521 रन) ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक श्रृंखला में 500 से अधिक रन बनाने वाले तीसरे बल्लेबाज बन गए हैं। इससे पहले राहुल द्रविड़ ने 2003-04 और विराट कोहली ने 2014-15 में यह कारनामा किया था। यही नहीं पुजारा इस श्रृंखला में 1258 गेंदें खेल चुके हैं जो आस्ट्रेलिया के खिलाफ नया भारतीय रिकार्ड है। राहुल द्रविड़ ने 2003-04 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 1203 गेंदें खेली थी।

पुजारा पर हालांकि थकान का असर दिखने लगा था और यह स्टार बल्लेबाज विदेशी धरती पर अपना पहला दोहरा शतक पूरा नहीं कर पाया। जब वह 192 रन पर थे तब लियोन की गेंद पर ख्वाजा ने स्लिप में उनका कैच छोड़ा। पुजारा इसका फायदा नहीं उठा पाए और उन्होंने इसके चार ओवर बाद लियोन को आसान कैच थमा दिया। जब वह पवेलियन लौट रहे थे तो एससीजी पर मौजूद दर्शकों ने खड़े होकर उनका अभिवादन किया। इसके बाद पंत और जडेजा ने मिलकर आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को परेशानी में रखा। इन दोनों ने शुरू में धैर्य रखा लेकिन बाद में तेजी से रन जुटाए। भारत 149वें ओवर में 500 रन के पार पहुंचा जबकि पंत ने 137 गेंदों पर अपना दूसरा टेस्ट शतक पूरा किया। इससे पहले उन्होंने पिछले साल इंग्लैंड के खिलाफ ओवल में 114 रन बनाए थे।

पंत ऑस्ट्रेलिया में शतक बनाने वाले पहले भारतीय विकेटकीपर बने। इससे पहले उच्चतम स्कोर फारूख इंजीनियर (89) के नाम पर था। भारत ने पारी समाप्त घोषित करने में जल्दबाजी नहीं दिखायी जिससे पंत 185 गेंदों पर 150 की रनसंख्या पार की और विदेश में भारतीय विकेटकीपर के सर्वोच्च स्कोर का महेंद्र सिंह धोनी (148 रन) का रिकाॅर्ड अपने नाम लिखवाया। इस बीच जडेजा ने भी 89 गेंदों पर अपना दसवां टेस्ट अर्धशतक पूरा किया। उन्होंने पैट कमिन्स के एक ओवर में चार चौके लगाकर टीम का स्कोर 600 रन के पार पहुंचाया। पंत जब 135 रन पर थे तब अंपायर ने जोश हेजलवुड की पगबाधा की विश्वसनीय अपील ठुकरा दी थी। ऑस्ट्रेलिया के पास कोई रिव्यू नहीं बचा था। लियोन ने आखिर में जडेजा को फ्लाइट लेती गेंद पर बोल्ड किया जिसके तुरंत बाद विराट कोहली ने पारी समाप्त घोषित कर दी। जडेजा ने 114 गेंदें खेली तथा सात चौके और एक छक्का लगाया। पंत का भी दर्शकों ने खड़े होकर अभिवादन किया। भारत ने श्रृंखला में 2-1 से अजेय बढ़त बना रखी है। उसने एडिलेड में पहला मैच 31 रन से और मेलबर्न में तीसरा टेस्ट 137 रन से जीता था। ऑस्ट्रेलिया ने पर्थ में खेले गये दूसरे टेस्ट मैच में 146 रन से जीत दर्ज की था।

टीमें इस प्रकार हैं:
भारत (अंतिम 11 ): विराट कोहली (कप्तान), मयंक अग्रवाल, हनुमा विहारी, लोकेश राहुल, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, ऋषभ पंत, रविंद्र जडेजा, जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, कुलदीप यादव।

ऑस्ट्रेलिया: टिम पेन (कप्तान), मार्कस हैरिस, उस्मान ख्वाजा, ट्रेविस हेड, शान मार्श, नाथन लियोन, मिशेल स्टार्क, पैट कमिंस, जोश हेजलवुड, मार्नस लाबुशेन, पीटर हैंड्सकोंब ।

Related posts