झारखंड: बाइक चोरी के शक में भीड़ ने युवक को खंभे से बांधकर लाठियों से पीटा, पुलिस हिरासत में मौत

सरायकेला। देश में लगातार मॉब लिंचिंग की घटनाएं सामने आ रही हैं। झूठी अफ़वाहों के चलते भीड़ ने कई लोगों को मौत के घाट उतारा है। ताजा मामला झारखंड के सरायकेला इलाके से सामने आया है। जहां बाइक चोरी करने के शक में भीड़ ने एक युवक की खंभे से बांधकर पिटाई की थी। इसके बाद युवक की शनिवार को जेल में मौत हो गई। अब पुलिस जांच में खुलासा हुआ है कि पिटाई के दौरान उससे जय श्रीराम के नारे भी लगवाए गए थे। इसके बाद पुलिस ने लापरवाही दिखाई और बगैर इलाज कराए उसे जेल भेज दिया। जहां उचित इलाज नहीं मिलने से युवक ने दम तोड़ दिया।

मिली जानकारी के अनुसार, यह घटना 18 जून को उस समय हुई जब तबरेज अंसारी अपने दो दोस्तों के साथ यहां से करीब 30 किलोमीटर दूर जमशेदपुर से पूर्वी सिंहभूमि जिला लौट रहे थे। इसी दौरान कुछ ग्रामीणों ने उन्हें पकड़ लिया और सरायकेला खरसावां जिले के धतकिडिह गांव में उस पर एक मोटरसाइकिल चुराने का आरोप लगाया। तबरेज अंसारी के दोस्त बच निकलने में सफल रहे लेकिन उसको गांव वालों ने खंभे से बांध दिया और रात भर लाठियों से उसकी पिटाई की। इसके बाद ग्रामीणों ने उसे पुलिस को सौंप दिया। पुलिस ने उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया। 22 जून को बेहद खराब हालत में उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

पिटाई का वीडियो वायरल होने के बाद रविवार को पुलिस के आला अफसरों ने मामले की गंभीरता से पड़ताल की। चोरी के आरोप में 17 जून की रात तबरेज अंसारी (24 साल) को भीड़ ने बेरहमी से पीटा था। पुलिस ने मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर केस दर्ज कर लिया है। तबरेज अंसारी को भीड़ ने खंभे से बांधा और जमकर पिटाई की। वीडियो और फोटो वायरल होने पर पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज कर लिया है।

वहीं इस मामले में तबरेज के रिश्तेदार मकसूद आलम ने बताया कि कुछ लोगों ने तबरेज को निशाना बनाया, क्योंकि वह मुस्लिम था। उनका कहना है कि भीड़ उससे जय श्रीराम और जय हनुमान के नारे भी लगवा रही थी। सरायकेला-खरसावां जिले के एसपी कार्तिक एस ने रविवार को तबरेज के परिजनों के मुलाकात की। उनका कहना है कि तबरेज की पत्नी के बयान पर केस दर्ज कर लिया गया है। मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं इस मामले में पुलिस और जेल प्रशासन की लापरवाही की जांच की जा रही है।

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अजय ने करमडीहा में मॉब लिंचिंग मामले में जांच टीम बनाई है। टीम को तीन दिनों के अंदर जांच रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है। उनका कहना है कि घटना के लिए जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

Related posts