झाबुआ उपचुनाव पर गढ़ी भाजपा-कांग्रेस की नज़रे, हो सकती हैं नाथ सरकार ढेर

मध्यप्रदेश: कांग्रेस पार्टी के लिए गोवा और कर्नाटक के बिगड़ते सियासी हालात अब मध्य प्रदेश की ज़मीन को भी छूने वाले हैं। बीजेपी के कई वरिष्ठ नेताओं से लेकर मीडिया प्रवक्ताओं तक मध्यप्रदेश में गोवा और कर्नाटक जैसे हाल की संभावना जताई है। वहीं कांग्रेस लगातार यह दावा कर रही है कि मध्यप्रदेश में उनकी सरकार सुरक्षित है और पांच साल का अपना कार्यकाल भी पूरा करेगी। हालांकि मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार को पूर्ण बहुमत प्राप्त नहीं हुआ था जिसकी वजह से उन्हें अन्य पार्टी के विधायकों का सहयोग लेना पड़ा था अब देखना यह है कि भाजपा मध्यप्रदेश में कैसी बिसाच जमा सत्ता वापस हासिल कर पाती हैं कि नही।

झाबुआ चुनाव पर गढ़ी सबकी नजरें
फिलहाल, कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टियों की नजरें झाबुआ में होने वाले विधानसभा उपचुनाव पर बटुक टिकी हुई हैं। यहां होने वाले विधानसभा उपचुनाव को लेकर दोनों पार्टियों की तैयारियां जोरों पर हैं। एक ओर जहां बीजेपी पर अपनी सीट बचाने का दबाव है, वहीं दूसरी ओर कांग्रेस यह सीट जीतकर विधानसभा में 50 प्रतिशत के आंकड़े तक पहुंचना चाहती है। परंपरागत तौर पर कांग्रेस की सीट माने जाने वाले झाबुआ से साल 2018 में हुए विधानसभा सभा चुनाव में भाजपा के उम्मीदवार ने जीत हासिल कर झाबुआ को भाजपा के पाले में डाला था।

Related posts