जेएनयू विवाद: कन्हैया, खालिद समेत 10 छात्रों के खिलाफ चार्जशीट दायर

नई दिल्ली। लगभग तीन साल पहले जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में हुई नारेबाजी के मामले में अब जांच पूरी हो चुकी है। स्पेशल सेल ने इस मामले में जो चार्जशीट दायर की है उसमें जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार सहित 10 छात्रों के नाम शामिल हैं। इस संबंध में दिल्ली पुलिस कमिश्नर और अभियोग से जरूरी अनुमति ले ली गई है। कन्हैया के अलावा जो प्रमुख नाम इसमें शामिल हैं वो उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य हैं।

इससे पहले एक वेबसाइट ने 12 सितंबर, 2018 को बताया था कि जिन अन्य छात्रों के नाम चार्जशीट में हैं उनमें कश्मीरी छात्र आकिब हुसैन, मुजीब हुसैन, मुनीब हुसैन, उमर गुल, रईस रसूल, बरहरत अली था खालिद बशीर भट शामिल हैं। इस मामले में सोमवार यानि आज पटियाला हाउस कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की गई। जांच के मुताबिक, कन्हैया कुमार ने 9 फरवरी को उन प्रदर्शनकारियों की अगुवाई की थी जिसमें नारेबाजी हुई थी।

पुलिस ने अपनी जांच में पाया कि इस कार्यक्रम के लिए किसी भी तरह की अनुमति की प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया था। चार्जशीट के मुताबिक, जब इन्हें रोका गया और बताया गया कि इस तरह के किसी कार्यक्रम की आपके पास अनुमति नहीं है तो कन्हैया कुमार आगे आ गए और सुरक्षा अधिकारी से बहस करने लगे जिसके बाद भीड़ ने नारेबाजी शुरू कर दी।

जेएनयू में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान कथित तौर पर देश विरोधी नारे भी लगे थे जिसे लेकर काफी बवाल हुआ था। बाद में कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी पर जमकर विवाद हुआ और समूचे विपक्ष ने पुलिस की आलोचना करते हुए कहा था कि पुलिस सत्तारूढ़ भाजपा के इशारे पर काम कर रही है। कई लोगों ने इसे बोलने की आजादी पर पाबंदी लगाने वाला कदम लगाया था।

इन सभी पर आरोप है कि इन्होंने संसद हमले के मास्टरमाइंड अफजल गुरु को फांसी दिए जाने के खिलाफ जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) परिसर में कथित तौर पर एक कार्यक्रम आयोजित किया था जिसमें देश विरोधी नारे लगे थे। राजद्रोह के आरोपों पर इन्हें 2016 में गिरफ्तार किया गया था।

Related posts