जाम में फंसी एम्बुलेंस, मरीज की मौत, पुलिस वसूली में व्यस्त रही

आरा। आरा-पटना नेशनल हाईवे पर यातायात व्यवस्था चौपट हो गई है। रोज लगने वाला जाम नासूर बनता जा रहा है। जाम के कारण कई घंटों तक एंबूलेंस फंसी रहती हैं। मरीज इलाज के लिए तरस जाते हैं। कई बार तो इस जाम में फंसकर उनका दम ही निकल जाता है। ऐसा ही एक मामला भोजपुर जिले में सोमवार रात को सामने आया। जहां बालू लदे ट्रैक्टरों और ट्रकों से पुलिस की अवैध वसूली के कारण लगे जाम में एम्बुलेंस के फंसने से एक मरीज की मौत हो गई। इससे पहले मरीज के परिजनों ने पुल पर तैनात पुलिसकर्मियों से एम्बुलेंस को निकलवाने की गुहार लगाई लेकिन पुलिसकर्मियों ने उसे अनसुना कर दिया।

सोमवार रात आरा-पटना नेशनल हाईवे पर बिहटा मोड़ से परेव बाजार, कोईलवर, कायमनगर, धरहरा तक रात साढ़े आठ बजे से सुबह आठ बजे तक 20 किलोमीटर से अधिक लंबा जाम लगा रहा। परेव इलाके में ट्रैफिक पुलिस के जवान बालू लदी गाड़ियों से अवैध वसूली में व्यस्त रहे। जाम में फंसने के कारण रात करीब 12 बजे आरा की ओर से पटना जा रही एक एंबुलेंस कोईलवर पुल पर जाम में फंस गई। मरीज के परिजन कोईलवर पुल के पूर्वी छोर पर तैनात ट्रैफिक पुलिस से गुहार लगाते रहे पर उन्होंने एक नहीं सुनी, जिसका नतीजा हुआ कि एंबुलेंस में ही मरीज की मौत हो गई।

भोजपुर जिले के आरा-छपरा फोरलेन से लेकर कोईलवर व संदेश प्रखंडों में जाम की स्थिति बेहद खराब है। जल्दी निकलने की होड़ में बेतरतीब ढंग से खड़े वाहनों को कतार में भेजने का प्रयास किसी भी स्तर पर नहीं हो रहा है। जिससे प्रतिदिन आरा-पटना राष्ट्रीय राजमार्ग पर धरहरा से लेकर कोईलवर और आरा-छपरा फोरलेन सड़क पर कोईलवर से लेकर छपरा तक वाहनों की लंबी कतारें लग रही हैं। जाम की वजह से बीती रात से हजारों ट्रक नेशनल हाइवे 30 पर खड़े हैं। कुछ ऐसा ही नजारा आरा-छपरा फोरलेन सड़क, सकडडी-नासरीगंज स्टेट हाइवे व कोईलवर-चांदी पथ का भी है।

Related posts