लापरवाही पर मुख्यमंत्री ने अपनाया कड़ा रुख, उज्जैन के संभागायुक्त और कलेक्टर को हटाया

उज्जैन मध्य प्रदेश, उज्जैन में शनिश्चरी अमावस्या में स्नान की अव्यवस्थाओं पर मुख्य मंत्री कमलनाथ ने सख्त रवैया अपनाते हुए मुख्य सचिव एसआर मोहंती के प्रतिवेदन पर संभागायुक्त एमबी ओझा सहित कलेक्टर मनीष सिंह को भी हटा दिया है। उज्जैन के नए संभावित होंगे अजीत कुमार वही शशांक मिश्रा को नया कलेक्टर बनाया गया है। बता दे कि 6 जनवरी को शनिश्चरी अमावस्या पर महाकाल की नगरी उज्जैन में शिप्रा नदी के सूखने व इससे श्रद्धालुओं को स्नान में आई बाधा की घटना पर आधारित समाचार पत्रों की खबरों को मुख्य मंत्री कमलनाथ ने बेहद गंभीरता से लिया था जिसकी वजह से मुख्य मंत्री कमलनाथ ने सीएस को इस पूरे मामले की जांच के निर्देश दिए हैं।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि उज्जैन में होने वाले समस्त मेले, पर्व स्नान त्यौहार एवं अन्य महत्वपूर्ण आयोजनों की जिला प्रशासन समस्त विभागों के साथ पूर्व में बैठक कर समन्वय के साथ संपूर्ण तैयारी करें। आयोजनों में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। बता दे कि संभागायुक्त एवं कलेक्टर पर यह कार्रवाई शनिश्चरी अमावस्या स्नान के अवसर पर समुचित व्यवस्था नहीं कर पाने के लिए दोषी मानते हुए की गई है।

Related posts