गर्मी में आसमान छू रही सब्जियों की कीमतें

भोपाल। प्रदेश में इन दिनों जहां लोकसभा चुनाव की सरगर्मियां तेज है तथा उम्मीदवार लगातार बढ़ती हुई महंगाई को कम करने के लिए अपने-अपने पक्ष में वोट मांग रहे हैं। तो दूसरी ओर इस भीषण गर्मी में राजधानी भोपाल से लेकर समूचे प्रदेश में सब्जियों के दाम भी आसमान छूते जा रहे हैं। जानकारी के अनुसार इस समय राजधानी भोपाल में पिछले एक सप्‍ताह से सब्जियों के दामों में इस तरह इजाफा हुआ कि लोगों को सब्जियां खरीदने में पसीना आ रहा है, लेकिन लोगों को मजबूरी है कि ज्‍यादा न सही थोड़ी ही सब्‍जी तो लेनी ही पड़ेगी।

एक तरफ जहां भीषण गर्मी का दौर चल रहा है तो दूसरी ओर सब्जियों की आवक भी कम कम हो गई है। इस कारण भी सब्ज्यिों के दामों के बेतहाशा बढ़ोतरी होने की मुख्‍य वजह बताई जा रही है। एक सब्जी बेचने वाले ने बताया कि भीषण गर्मी में इन दिनों सब्जियों को बचाये रखना बड़ा ही जोखिम भरा काम है, क्योंकि आसामान से बरसती आग और झुलसा देने वाली गर्मी ने सब्जियों की हालत खराब कर दी है। इसलिए जितनी बिक्री होती है उससे अधिक की सब्जियां रोजना फेंकनी पड़ रही हैं। क्योंकि अत्याधिक गर्मी के कारण सब्जियों को एक दिन तक रोक रखना मुश्किल भरा काम है। इस कारण लगातार सब्जियों के दाम बढ़ रहे हैं।

इसके साथ ही अभी यह सब्जियां जिले के बाहर से आ रही है जिससे इसके परिहवन आदि में ज्यादा खर्च और टैक्स लगने के कारण महंगी हो रही हैं, हालांकि आगामी मई के दूसरे सप्ताह में लोकल सब्जियों की आवक बढऩे के बाद इनके दामों में जरूर गिरावट आ सकती है, लेकिन अभी कुछ कहा भी नहीं जा सकता है। आसपास के क्षेत्रों में आवारा जानवरों और पानी की कमी के कारण इन दिनों सब्जियों का रख-रखाव कर उन्‍हें बचाना फिर गर्मी के दिनों में कीटनाशकों के कारण लागत और उत्पादन में कमी के कारण भी सब्जियों के दाम बढ़ रहे हैं।

आलू 15 रूपये किलो, टमाटर गिलकी 60, शिमला 70 वरवटी 60 40, खीरा, 40, कटलह 40, लौकी 50, कद्दू 40, प्याज 20, फूलगोभी 60, बंधागोभी 20 के साथ ही अन्य सभी सब्जियों के दाम 40-50 रुपये प्रति किलो फुटकर में मिल रहे हैं। इसलिए आम आदमी की जेब एक दिन की सब्‍जी में यदि वह एक-एक पाव भी खरीदता है तो कम से कम 100 रुपये की रोजना हो जाती है। इसलिए सब्जियों इन दिनों लगातार दामों में उछाल आ रहा है। सब्जियों के बढ़ते दाम से आम आदमी के जायका लगातार फीका हो रहा है, क्योंकि सब्जियों की बढ़ती महंगाई के कारण गरीबो की थाली से वह लगातार दूर होती जा रही है।

Related posts